अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऑपरशन पाठा के चााँबाचा दुखी

ठोकिया को ठिकाने लगाने वाली एसटीएफ की आधी टीम को ‘आउट ऑफ टर्न’ प्रमोशन नहीं दिया गया है। टीम के कुछ सदस्य इस मामले में कोर्टोाने की तैयारी कर रहे हैं। उनके मुताबिक कुछ अधिकारी ोदभाव कर रहे हैं। एक सदस्य ने कहा कि मुख्यमंत्री खुद मानती हैं कि ददुआ और ठोकिया का सफाया सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है पर अफसर नहीं चाहते कि इस खतरनाक ऑपरशन को अपनी हिम्मत और नेतृत्व क्षमता से पूरा करने वालों को पूरा सम्मान मिले।ड्ढr टीम के 12 सदस्यों को तीन-तीन लाख का नकद पुरस्कार मिला है और बाकी 12 को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन। इससे आधी टीम खुश नहीं। बीती छह अक्तूबर को डीाीपी विक्रम सिंह ने प्रमुख सचिव गृह को पत्र लिखा..एसटीएफ के इंस्पेक्टर अनिल सिंह और ऋषिकांत यादव ने ऑपरशन ठोकिया में अदम्य साहस का परिचय दिया है..लिहा इन्हें .आउट ऑफ टर्न प्रमोशन.देने की संस्तुति कीोाती है। इसके बावाूद एक बार फिर इन दोनों को प्रमोशन नहीं मिला। ददुआ को मारने वालों में एएसपी अनंत देव के साथ इन दोनों इंस्पेक्टरों ने ही सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। तब इन दोनों को प्रमोशन देने की घोषणा हुई और डिप्टी एसपी की वर्दी पहनवाकर रिहर्सल भी कराई गई पर अचानक निर्णय वापस ले लिया गया। यह फैसला इसलिए किया गया क्योंकि दोनों इंस्पेक्टरों को पहले भी आउट ऑफ टर्न प्रमोशन मिल चुका है।ड्ढr दिलचस्प है कि फैसला करने वाली कमेटी ने इसी साल 25ोुलाई को हेड कांस्टेबिल पंका द्विवेदी, धीरन्द्र सिंह और सब इंस्पेक्टर विनोद मिश्र को दूसरी बार .आउट ऑफ टर्न. प्रमोशन दिया।ोब ठोकिया मारा गया तो उसे मारने वाली टीम के सदस्यों के लिए दोहरा मापदंड अपना लिया गया। इनमें सब इंस्पेक्टर महावीर सिंह और हेड कांस्टेबल सुनील कुमार भी शामिल हैंोिन्होंने ऑपरशन पाठा में सक्रिय भूमिका निभाई। नकद पुरस्कार से सम्मानित होने वालों में एडीाी एसटीएफ बृालाल व आईाी एसटीएफ केएल मीना से लेकर कांस्टेबल-ड्राइवर मानवेन्द्र सिंह व मनो कुमार तक शामिल हैं। दोनों ड्राइवरों का ऑपरशन पाठा में महत्वपूर्ण रोल था पर उन्हें भी आउट ऑफ टर्न प्रमोशन नहीं दिया गयाोबकि ठोकिया ने एसटीएफ टीम पर हमला किया तो उसमें एक ड्राइवर ईश्वरदेव सिंह की मौत हुई थीोो यह साबित करती है कि एसटीएफ का ड्राइवर हर वक्त निशाने पर रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऑपरशन पाठा के चााँबाचा दुखी