DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंद कर बिहारियों को पीटा

महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों में रलवे की परीक्षा देने गए बिहारी छात्रों को होटल का कमरा व परीक्षा हॉल का दरवाजा बंद करके मनसे कार्यकर्ताओं ने पीटा था। वे खोज-खोज कर बिहारी छात्रों की बेरहमी से पिटाई कर रहे थे। किसी तरह जान बचाकर बिहारी छात्र घर लौटे। मंगलवार को पटना जंक्शन लौटने के बाद छात्रों ने हिन्दुस्तान के संवाददाता को अपनी पीड़ा सुनाई। रोहतास के प्रदीप कुमार ने बताया कि महाराष्ट्र के शोलापुर में उनका सेंटर था। मनसे के कार्यकर्ता सैकड़ों की संख्या में पहुंच कर परीक्षा हॉल का दरवाजा बंद कर दिए और बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी।ड्ढr ड्ढr महाराष्ट्र की पुलिस भी कार्यकर्ताओं की मदद कर रही थी। कार्यकर्ता लाठी, डंडे, हॉकी स्टिक से मार रहे थे। वेषभूषा व भाषा से बिहारियों की पहचान कर रहे थे। मुसल्लहपुर, पटना के शशिभूषण ने कहा कि महाराष्ट्र के थाणे स्टेशन में रात ढाई बजे सो रहे बिहारी छात्रों की स्थानीय लोगों ने पिटाई शुरू कर दी। छात्रों का बैग भी छीन लिया। छात्र किसी तरह जान बचाकर भागे। बेगूसराय के मंसूरचक निवासी राजीव रांन ने कहा कि मुंबई कांदिीबली में उनका सेंटर था। दादर स्टेशन से छात्र जसे ही बाहर निकले करीब 100 की संख्या में आए मनसे के कार्यकर्ताओं ने उनलोगों की पिटाई शुरू की। कई छात्रों का सिर भी फट गया। इमामगंज, पटना के निलेश कुमार ने कहा कि शोलापुर स्टेशन के वेटिंग रूम में अचानक बड़ी संख्या में स्थानीय लोग पहुंचे और बिहारी छात्रों की पहचान कर पिटाई करने लगे। हाथ में लाठी व तलवार लेकर वे लोग स्टेशन पर हमला बोले थे। डेहरी ऑनसोन के मनीष कुमार ने कहा कि मराठी बोलवा कर बिहारियों की पहचान कर रहे थे।ड्ढr ड्ढr उसके बाद जानवरों की तरह पिटाई कर रहे थे। स्थानीय यारपुर के चंद्रमनीष ठाकुर ने कहा कि मनसे के कार्यकर्ता होटल में खोज-खोज कर बिहारियों की पिटाई कर रहे थे। सहरसा के सिकु राम ने बताया कि कई घायल छात्र मुंबई के अस्पतालों में अभी भी भर्ती हैं। उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। स्थानीय यारपुर के उमेश कुमार सिंह ने कहा कि जान बचाने के लिए बिहार छात्र अपना सामान छोड़ कर भाग गए। कई छात्रों के कपड़े उतरवा कर मनसे के कार्यकर्ता पिटाई कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बंद कर बिहारियों को पीटा