अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीतीश ने पीएम को पत्र लिखा: महाराष्ट्र मामले में शीघ्र हस्तक्षेप करंे

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने महाराष्ट्र में उत्तर भारतीयों पर हमले की कड़ी निन्दा की है और प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर उनसे इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप का अनुरोध किया है। प्रधानमंत्री को भेजे अपने पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र में कानून का राज स्थापित करने की जिम्मेवारी महाराष्ट्र और केन्द्र सरकार की है। उन्होंने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि ऐसा कदम उठाया जाए ताकि भविष्य में ऐसी घटना की पुनरावृत्ति फिर से न हो और हम सबके लिए पूरा भारत सुरक्षित हो।ड्ढr ड्ढr नीतीश कुमार ने बताया कि उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से बात कर उन्हें बिहार की जनता की चिन्ताओं से अवगत कराया और नफरत फैलाने वाले तत्वों पर तत्काल कठोर कार्रवाई करने की आवश्यकता जताई। इस मामले में बिहार के अधिकारी भी महाराष्ट्र सरकार के लगातार संपर्क में हैं। मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र में मार गए बिहारी छात्र के शव को बिहार लाने और महाराष्ट्र से लौटे छात्रों के यहां पहुंचने के बाद से शुरू हुए धरना-प्रदर्शन, सड़क-रल जाम, तोड़-फोड़ और आगजनी की भी पूरी जानकारी दी है।ड्ढr मुख्यमंत्री ने लिखा है कि महाराष्ट्र की घटना से नाराज होकर वहां से लौटे लोग बिहार में सरकारी संपत्तियों पर गुस्सा निकाल रहे हैं। नाराजगी और आक्रोश निकालने के लिए रलवे स्टेशन उनके लिए सॉफ्ट टारगेट बन गया है। पत्र में प्रधानमंत्री को बताया गया कि बिहार में कानून हाथ में लेने वालों के खिलाफ राज्य सरकार ने कड़ी कार्रवाई की है। कई स्थानों पर लाठी चार्ज और अश्रुगैस का इस्तेमाल किया गया। सासाराम में पुलिस को फाइरिंग करने पर विवश होना पड़ा। जिला प्रशासन द्वारा त्वरित कार्रवाई के कारण तीव्र प्रतिक्रिया को नियंत्रित किया जा सका और सरकारी संपत्ति के व्यापक नुकसान पर काबू पाने में वे सफल रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नीतीश ने पीएम को पत्र लिखा: महाराष्ट्र मामले में शीघ्र हस्तक्षेप करंे