अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

झूठे हैं सचिन,आरोप लगाया गिली ने

आस्ट्रेलिया के पूर्व कीपर एडम गिलक्रिस्ट ने अपनी आत्मकथा में यह कहकर सनसनी फैला दी है कि इस साल के शुरू में आस्ट्रेलिया के साथ सिरीा के दौरान हरभान-साइमंड्स मुद्दे पर सचिन तेंदुलकर ने सुनवाई के समय झूठ बोलकर भज्जी को बचाया था।ड्ढr आस्ट्रेलियाई अखबार ‘द एा’ ने गिली की आत्मकथा के हवाले से कहा कि सचिन नेोो गवाही सुनवाई आयोग के सामने दी, उसमें उन्होंने भज्जी का बचाव करने में अपनी साख का गलत तरीके से इस्तेमाल किया। गिली का कहना था कि सचिन का व्यवहार ‘हार को गरिमामय’ तरीके से स्वीकार नहीं करने वाला था। गिली ने कहा कि सचिन ने भज्जी-साइमंड्स प्रकरण में बतौर गवाहोो कहा, उससे दौर पर ही खतर के बादल छा गए थे। उन्होंने सचिन की ईमानदारी पर सवाल उठाते हुए कहा है कि भज्जी नेोो कथित तौर पर सिमो को ‘मंकी’ कहा, उस पर तेंदुलकर अपनी बात से ही पलट गए। गिली के मुताबिक सचिन ने गवाही के दौरान पहले कहा कि भज्जी ने क्या कहा, यह नहीं सुन सके क्योंकि वहां से वे दूर थे, पर बाद में अपील की सुनवाई के दौरान कहा कि भज्जी ने सिमो को ‘मंकी’ नहीं बल्कि हिंदी शैली में ‘कुछ और’ कहा था,ोो कंगारुओं को मंकी लगा था। गिली ने यह भी कहा किोिस तरह से भारत ने दौर को रद करने की धमकी दी, वह क्रिकेट को ‘बंधक’ बनाने सरीखा था। धमकी को असलियत का रंग तब तक दियाोाता रहाोब तक कि फैसला मनमुताबिक नहीं हो गया। एडम के मुताबिक सुनवाई के दौरान सचिन की गवाही एक ‘मााक’ थी, क्योंकि रंगभेद का गंभीर मुद्दा सामने था और सबको उसे सांीदगी से लेना था। लेकिन भारतीयों ने हर तरह से दबाव बनाकर भज्जी को मुक्त करा लिया। गिली का कहना है कि आस्ट्रेलियाई स्टाइल में हम कठोर खेलते हैंोहां विपक्षी को एक इंच भी नहीं देते। लेकिन खेल खत्म होते ही हाथ मिलाकर सबकुछ मैदान में ही छोड़ देते हैं। हमार कुछ विपक्षी ऐसा नहीं करते। उदाहरण के लिए सचिन चोिंंग रूम मेंोब हाथ मिलाएोाते हैं तो वे लापता मिलते हैं और यही बात भज्जी के लिए भी कहीोा सकती है। गिली ने कहा कि मेर ख्याल से यह भिन्न सोच और शैली का मामला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: झूठे हैं सचिन,आरोप लगाया गिली ने