DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेथेसदा बीएड कॉलेज में छात्रों ने किया हंगामा

झारखंड छात्र संघ के छात्रों ने सोमवार को बेथेसदा बीएड कॉलेज में उर्दू और जनजातीय व क्षेत्रीय भाषा में एडमिशन की मांग को लेकर हंगामा किया। विवि छात्र संघ की पूर्व संयुक्त सचिव नाजिया तबस्सुम एवं एस अली के नेतृत्व में छात्र प्राचार्य से मिलने पहुंचे थे। परंतु प्राचार्या अतिशन तिड़ो कॉलेज में मौजूद नहीं थीं। इस पर छात्रों ने नाराज होकर नारबाजी शुरू कर दी। उनका कहना था कि कॉलेज मनमानी कर रहा है। यहां उर्दू और जनजातीय व क्षेत्रीय भाषा के एडमिशन फार्म नहीं लिये जा रहे हैं, जबकि एनसीटीइ और रांची यूनिवर्सिटी के नियमों के तहत उक्त दोनों विषय में पांच-पांच सीटें सुरक्षित रखने का प्रावधान है। साथ ही छात्र प्रवेश परीक्षा के माध्यम से एडमिशन का विरोध कर रहे थे। बाद में छात्रों ने प्रबंधन को ज्ञापन सौंप कर कहा कि यदि दोनों विषयों में एडमिशन शुरू नहीं हुआ, तो वे बाध्य होकर कॉलेज के खिलाफ चरणबद्ध आंदोलन करंगे। प्रदर्शन करनेवाले छात्रों में रांीत उरांव, मो फुरकान, शिव कुमार केसरी, इकबाल खान, मो खुर्शीद, अजीत सिंह, लतीफ आलम, अभिषेक पाठक, पिंटू केसरी, महेंद्र कच्छप, लाली महतो, सुधीर टेटे आदि शामिल थे। सभी निजी बीएड कॉलेज जायेंगे छात्र नेता : झारखंड छात्र संघ के अध्यक्ष एस अली एवं विवि छात्र संघ की पूर्व संयुक्त सचिव नाजिया तबस्सुम ने कहा है कि वे सभी निजी कॉलेजों का दौरा कर वहां के छात्रों की समस्याओं की जानकारी लेंगे। मनमानी का विरोध : झारखंड मोमिन अंसारी महापंचायत ने निजी बीएड कॉलेजों की मनमानी का विरोध किया है। संगठन के मीडिया प्रभारी मो अंसारी ने कहा कि कुछ निजी बीएड कॉलेज उर्दू एवं जनजातीय भाषाओं में एडमिशन नहीं ले रहे हैं। एसे कॉलेजों की मान्यता रद्द कर देनी चाहिए। संगठन ने मामले में राज्यपाल से हस्तक्षेप करने की मांग की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बेथेसदा बीएड कॉलेज में छात्रों ने किया हंगामा