विदेशी मुद्रा भंडार में चौथे हफ्ते भी गिरावट - विदेशी मुद्रा भंडार में चौथे हफ्ते भी गिरावट DA Image
9 दिसंबर, 2019|2:06|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विदेशी मुद्रा भंडार में चौथे हफ्ते भी गिरावट

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार चौथे सप्ताह गिरावट दर्ज की गई। सत्रह अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 11 करोड़ 80 लाख डॉलर गिरकर 273 अरब 88 करोड़ 60 लाख डॉलर रह गया। दस अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में रिकार्ड नौ अरब रोड़ 70 लाख डॉलर का नुकसान हुआ था और यह 274 अरब चार करोड़ डॉलर रह गया था। इससे पहले तीन अक्टूबर को समाप्त अवधि में विदेशी मुद्रा भंडार सात अरब 87 करोड़ 80 लाख डॉलर गिरकर 283 अरब रोड़ 10 लाख डॉलर रह गया था। रिजर्व बैंक के आंकडों के मुताबिक पिछले साल 1अक्टूबर को विदेशी मुद्रा भंडार में 261 अरब 14 करोड़ 30 लाख डॉलर के बराबर विदेशी मुद्रा थी। मई के अंतिम सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 316 अरब 17 करोड़ 10 लाख डॉलर के रिकार्ड स्तर पर पहुंच गया था। इसकी तुलना में 17 अक्टूबर को समाप्त अवधि में भंडार में 42 अरब 28 करोड़ 50 लाख डॉलर की भारी गिरावट आ चुकी है। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि अंतर बैंकिंग विदेशी मुद्रा बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपये में आ रही गिरावट को थामने के लिए डॉलर की बिकवाली से भंडार पर असर पड़ रहा है। शुक्रवार को एक डालर की कीमत 50.15 रुपए के रिकार्ड स्तर को छूने के बाद सत्र की समाप्ति पर 40.40 रुपए पर बंद हुई थी।ड्ढr विदेशी संस्थागत निवेशकों.एफआईआई. की लगातार लिवाली के चलते रुपए पर खासा दबाव बना हुआ है। एफआईआई इस वर्ष 12 अरब 30 करोड़ डॉलर की निकासी कर चुके हैं और इससे रुपया 21.4 प्रतिशत टूट चुका है। पिछले साल एफआईआई के 17 अरब 40 करोड़ डॉलर के निवेश के बूते डॉलर के समक्ष रुपया 12 प्रतिशत मजबूत हुआ था। आंकडों के मुताबिक आलोच्य अवधि में विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां 264 अरब रोड़ 70 लाख डॉलर से घटकर 264 अरब 86 करोड़ 10 लाख डॉलर के बराबर रह गई। पिछले साल इस कोष की राशि 253 अरब 32 करोड़ 40 लाख डॉलर के बराबर थी। सोना और विशेष निकासी अधिकार की राशि क्रमश आठ अरब 56 करोड़ 50 लाख तथा चालीस लाख डालर पर टिकी रही। पिछले साल इन कोषों में क्रमश सात अरब 36 करोड़ 70 लाख तथा एक करोड़ 30 लाख डॉलर के बराबर विदेशी मुद्रा थी। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के पास सुरक्षित राशि भी 45 करोड़ 80 लाख रुपये से घटकर 45 करोड़ 60 लाख डॉलर रह गई, जो पिछले साल 1अक्टूबर को 43 करोड़ 0 लाख डॉलर थी। एशिया में विदेशी मुद्रा भंडार के मामले में देश का चौथा स्थान है। चीन इस मामले में एशिया में प्रथम स्थान पर है, जबकि जापान और ताईवान इसके बाद हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: विदेशी मुद्रा भंडार में चौथे हफ्ते भी गिरावट