अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शीला, सज्जन की चली, माकन की नहीं

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने अपनी पुरानी परम्पराओं को दरकिनार कर विधानसभा चुनाव के लिए पांच निगम पार्षदों सहित 53 उम्मीदवारों की सूची लगभग तय कर ली है। चुनाव के बाद दिल्ली की सत्ता पर कौन काबिज होगा, यह तो समय ही बताएगा लेकिन तीन-चौथाई प्रत्याशियों के नाम तय करने में तो कांग्रेस ने बाजी मार ली है। इन उम्मीदवारों के नामों की अधिकृत घोषणा दीपावली पर्व के बाद की जाएगी। 17 सीटों का मामला अभी तक लटका हुआ है, जिसके लिए नेताओं को खासी माथापच्ची करनी पड़ रही है। उम्मीदवारों की पहली सूची से ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष व सांसद जेपी अग्रवाल और बाहरी दिल्ली के सांसद सज्जन कुमार अपन-अपने उम्मीदवारों को टिकट दिलाने में कामयाब रहे जबकि नई दिल्ली क्षेत्र के सांसद व केंद्रीय शहरी विकास राज्यमंत्री अजय माकन इस मामले में पिछड़ गए। शनिवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में कांग्रेस केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में उम्मीदवारों के नामों को अंतिम रूप दिया गया। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री डा. योगानंद शास्त्री को किस सीट से खड़ा किया जाएगा, इसका फैसला फिलहाल नहीं लिया गया जबकि मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, उनकी सरकार के सभी मंत्रियों और 36 विधायकों को के नामों को हरी झंडी दिखा दी गई। शकूर बस्ती से विधायक डा. एस.सी. वत्स की जगह किसी और को टिकट दिया गया है। पहली सूची में जहां पांच निगम पार्षदों को टिकट दिया गया है, वहीं अन्य दलों से कांग्रेस में शामिल हुए राकांपा के अध्यक्ष रामबीर सिंह बिधूड़ी को बदरपुर और भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए दयानंद चंदेला को राजौरी गार्डन से प्रत्याशी बनाया जाएगा। प्रदेश पार्टी के तीन पदाधिकारियों महमूद जिया, देवेन्द्र यादव, दीपिका खुल्लर, शम्भू दयाल शर्मा और अनिल चौधरी को भी चुनाव मैदान में उतारने का निर्णय लिया गया है। अनिल चौधरी दिल्ली प्रदेश युवक कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं। वैसे यदि देखा जाए तो टिकट के लिए कांग्रेस के 71 निगम पार्षद लाइन में लगे हुए थे, जिनमें से अभी तक केवल पांच को टिकट दिया है। जिन 17 सीाटें के बार में अभी तक निर्णय नहीं लिया जा सका है उनमें नरला, मुंडका, किराड़ी, रोहिणी, वजीरपुर, सदर, तिलक नगर, विकासपुरी, मालवीय नगर, नजफगढ़, जंगपुरा, कस्तूरबा नगर, महरौली, त्रिलोकपुरी, बाबरपुर, घौंडा और करावल नगर शामिल हैं।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शीला, सज्जन की चली, माकन की नहीं