DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुद्ध के रास्ते पर ही शांति

राज्यपाल आरएल भाटिया ने कहा कि भगवान बुद्ध के उपदेश आज भी प्रासंगिक है। इनके बताये रास्ते पर चलकर ही शांति की प्राप्ति हो सकती है। ढाई हजार वर्षो पूर्व भारत समेत कई एशियाई देशों ने भगवान बुद्ध के शरण में जाकर शांति प्राप्त की थी। आज वैश्विक हालात ऐसे हैं कि इनके उपदेशों को आत्मसात करके ही मानव चैन की जिंदगी जी सकता है।ड्ढr ड्ढr श्री भाटिया शनिवार को राजगीर स्थित विश्व शांति स्तूप की 3वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू ने राजगीर में विश्व शांति स्तूप की स्थापना की मंजूरी देकर तत्कालीन अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य के बीच शांति का संदेश देने का प्रयास किया था। आज उसी का परिणाम है कि भारत-चीन के बीच मधुर संबंध हुए हैं। प्रतिवर्ष कई देशों के हजारों बौद्धजन इस स्थल में शांति का पाठ पढ़ने आते हैं। वे यहां की मिट्टी को नमन करते हैं। हम धन्य हैं जो बुद्ध की धरती पर जन्म लेने का अवसर हमें प्राप्त हुआ है। आज तो मैं यहां आकर और ही धन्य हो गया, जहां से बुद्ध ने शांति का संदेश विश्व को दिया था।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बुद्ध के रास्ते पर ही शांति