अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आइसा-माले ने ठाकर का पुतला फूंका

बिहटा- औरंगाबाद मुख्य मार्ग पर आईसा एवं माले के दर्जनों कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकालकर राज ठाकर एवं बाल ठाकर का पुतला फूंका। सभा में केन्द्र सरकार पर राजनीतिक तुष्टिकरण एवं नीतीश, लालू, रामविलास में राज ठाकर से टकराने की इच्छा शक्ित की कमी बताई। साथ ही इसके लिए भविष्य में उग्र आंदोलन चलाने की बात कही। सभा में गोपाल सिंह, जगरनाथ चौधरी, जोगिंदर दास, सुरन्द्र दास यादव, भीमल राम, माधुरी गुप्ता, नरश प्रसाद, रामचंद्र राम आदि प्रमुख थे। मनेर सं.सू. के अनुसार बिहार बंद के दौरान आरवाईए के बैनर तले सीपीआई एमएल ने जुलूस निकाला। नेताओं ने राज ठाकर सहित कांग्रेस पार्टी और उसके सहयोगी पार्टी को निशाना बनाते हुए जमकर नारबाजी की। साथ ही भगत सिंह की प्रतिमा के सामने राज ठाकर का पुतला फूंका। इस अवसर पर माले नेता अम्बिका राम, गुरुदेव दास, रामकुमार राय, सुधीर कुमार तथा छात्र नेता रांीत कुमार, मनोज कुमार ने उपस्थित लोगों को संबोधित किया। पालीगंज सं.सू. के अनुसार मुंबई में राज ठाकर समर्थकों की गुंडागर्दी के खिलाफ बिहार बंद पालीगंज में असरदार रहा। एआईएसएफ से जुड़े छात्रों ने जुलूस निकाल जबर्दस्त प्रदर्शन किया और राज का पुतला भी फूंका। इस दौरान कुछ दुकान में तोड़फोड़ के आरोप में 55 छात्रों को पालीगंज पुलिस ने गिरफ्तार किया। बाद में सभी रिहा कर दिए गए।ड्ढr वहीं माले समर्थकों ने भी प्रतिरोध मार्च किया और राज ठाकर पर देशद्रोह का मुकदमा करने की मांग किया। उधर इमामगंज में छात्रों ने बाजार बंद कराया और जीप को क्षतिग्रस्त कर दिया। दुल्हिन बाजार सं.सूं. के अनुसार शनिवार को भाकपा माले कार्यकत्त्राओं ने पूरा बाजार पूरी तरह बंद रखा तथा पाली-पटना मुख्य मार्ग भी बंद रखा। इस दौरान कई वाहनों की हवा निकालकर सउ़क के बीचोंबीच लगाये रखा। इसका नेतृत्व विधायक प्रतिनिधि रामाशीष राम ने किया जिसमें आशा देवी, विजय मोची, विद्यानंद बिहारी, शिवपूजन, मंगल यादव समेत कई मौजूद थे।ड्ढr ड्ढr बंद बेअसरड्ढr बख्तियारपुर (सं.सू.)। बंद के दौरान यहां शांति बनी रही। प्रशासन सुबह से ही स्टेशन, बस अड्डा समेत सभी सार्वजनिक जगहों पर मुश्तैद था। बंद के बावजूद बाजार और दुकान खुले रहे। दिन में कुछ छात्रों द्वारा दुकानें बंद कराने का प्रयास किया गया जिसे थानेदार ध्रुव कुमार सिंह छात्रों को समझाने में सफल रहे और छात्र वापस लौट गये। वहीं अंचलाधिकारी दिन भर शांति व्यवस्था बनाए रखने में अधिकारियों को निर्देश देने में तत्पर दिखे। खुसरूपुर सं.सू. के अनुसार बंद का यहां कोई प्रभाव नहीं दिखा। पिछले दिनों की घटना को देखते हुए रल प्रशासन ने पुख्ता इंतजाम किया हुआ था। आरपीएफ तथा जीआरपी पूर रलवे स्टेशन परिसर में मुस्तैदी से मौजूद थे। वहीं जिला पुलिस ने बंद को देखते हुए राजमार्गो तथा नगर में पेट्रोलिंग की।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आइसा-माले ने ठाकर का पुतला फूंका