DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माटी को महत्व दे टाटा

टाटा झारखंडी कंपनी है। 100 वर्ष से यहां उसके रहने के बावजूद सिंहभूम से गरीबी दूर नहीं हुई है। इस माटी के लोगों को कंपनी ने महत्व नहीं दिया, लेकिन अब जमाना बदल रहा है। लोगों की सोच बदल रही है, इसलिए कंपनी को सुधरने की जरूरत है। यह बातें मुख्यमंत्री शिबू सोरन ने कहीं। शनिवार की दोपहर वे यहां गोपाल मैदान में राष्ट्रीय खादी एवं हस्तशिल्प महोत्सव-2008 के उद्घाटन समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रकृति ने अपने संसाधनों से इस प्रदेश को मालामाल कर रखा है। यहां के संसाधनों का दोहन करनेवाली कंपनियां खूब धन कमा रही हैं, लेकिन यहां के लोगों को इसका लाभ मिलना बाकी है। इसलिए हमें गांव से लेकर शहर तक काम करना है। हमने 40 वर्ष के संघर्ष से अलग राज्य दिलाया है। हम निश्चित रूप से राज्य के विकास के लिए कुछ करंगे भी। मुख्यमंत्री के साथ उप-मुख्यमंत्री सुधीर महतो, भूमि एवं राजस्व मंत्री दुलाल भुइयां और खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के चेयरमैन जयनंदू मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: माटी को महत्व दे टाटा