DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले योजना को धरातल पर उतारं

एक बार फिर रांची नगर निगम के पार्षदों ने स्टैंडिंग कमेटी की बैठक का बहिष्कार किया। दो को छोड़कर शेष 11 पार्षद बैठक में शामिल नहीं हुए। शनिवार को दिन के 11 बजे से नगर निगम स्टैंडिंग कमेटी की बैठक थी। स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य सुनील टोप्पो और परवीन लिंडा ही इसमें शामिल हुए। बैठक में मेयर रमा खलखो, डिप्टी मेयर अजयनाथ शाहदेव, सीइओ राहुल पुरवार, डिप्टी सीइओ मुकेश कुमार वर्मा आदि उपस्थित थे। दिन के एक बजे तक निगम अधिकारी कमेटी के सदस्यों का इंतजार करते रह गये। बाद में सीइओ ने बैठक स्थगित कर दी। इधर स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य बैठक का बहिष्कार करते हुए एक जगह जमा हुए। सभी ने नगर निगम के कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ विरोध प्रकट किया। मेयर पर बरसे पार्षद : पार्षदों का आरोप है कि मेयर अधिकारियों की भाषा बोलती हैं। उनके अधिकार कुचले जा रहे हैं। सदस्यों ने होटल सूर्या में बैठक की। वहां निर्णय लिया गया है कि जब तक बोर्ड से पारित योजनाओं को धरातल पर उतारा नहीं जायेगा, तब तक विरोध जारी रहेगा। बैठक में संजीव विजयवर्गीय, राजन वर्मा, सुनील गुप्ता, राजेश गुप्ता, जमील अख्तर, सुरंद्र नायक, प्रीति देवी, उर्मिला यादव, मुनि कच्छप, नाजिमा राा और सविता कुाूर शामिल थे।ड्ढr पार्षदों के खिलाफ कर्मचारी गोलबंद : रांची नगर निगम के कर्मचारी पार्षदों के खिलाफ गोलबंद हो गये हैं। कर्मचारी संघ के अध्यक्ष अवध बिहारी तिवारी ने चेतावनी दी है कि पार्षद कर्मचारियों के काम में दखलंदाजी न करं। छठ पूजा के बाद उनके खिलाफ आंदोलन किया जायेगा।ड्ढr पार्षद विरोध करते हैं तो करं : मेयरड्ढr रांची। मेयर रमा खलखो ने कहा है कि अगर पार्षद विरोध करते हैं, तो करं। इसके लिए वे स्वतंत्र हैं। जहां तक अधिकारों की बात हैं, हमें खुद अधिकार नहीं मिला है, तो हम उन्हें कहां से अधिकार दिलायेंगे। पार्षदों को बैठक का बहिष्कार नहीं करना चाहिए था। उनकी जो भी समस्या थीं, उन्हें हम से मिल कर ज्ञापन देना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पहले योजना को धरातल पर उतारं