अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अभी तक घोषित नहीं हुए खतरनाक घाट

छठ महापर्व का चार दिवसीय अनुष्ठान दो नवंबर से शुरू हो रहा है। लेकिन जिला प्रशासन ने अभी तक खतरनाक घाटों की सूची जारी नहीं की है। नगर निगम के आयुक्त ने जिला प्रशासन से जल्द से जल्द खतरनाक घाटों की सूची जारी करने की अपील की थी। ताकि इन घाटों पर बैरिकेटिंग और सुरक्षा उपाय किया जा सके। खतरनाक घाटों पर जिला प्रशासन की ओर से सुरक्षा और अन्य इंतजाम नहीं किए जाते हैं। साथ ही इन घाटों पर अघ्र्य देने की मनाही होती है।ड्ढr ड्ढr जिला प्रशासन ने अभी तक सूची जारी नहीं की है, जबकि दीपावली बीते दो दिन हो चुके हैं। पिछले साल पटना सिटी, पटना सदर और दानापुर अनुमंडलों के कुल 38 घाटों को असुरक्षित और अयोग्य घोषित किया गया था। पटना सिटी अनुमंडल के जिन घाटों को खतरनाक घोषित किया गया था, उसमें महाराज घाट, केशव राय घाट, मिरचाई घाट, हीरानन्द साह घाट, गुरु गोविन्द सिंह घाट, दमराही घाट, किला घाट और दमराही घाट शामिल थे। जबकि पटना सदर अनुमंडल के बिंद टोली घाट, पोल्सन घाट, एक्सटीटीआई घाट, पाटीपुल घाट, गेट नं. घाट, दीघा हाट घाट, घोबी घाट, मगध महिला कालेज घाट, बोस घाट, रामजी घाट, दीघा हाट घाट, ए एन सिन्हा इंस्टीच्यूट घाट, नकटा दियारा घाट व रामजी घाट शामिल हैं। इस ूसची में दानापुर अनुमंडल के नारियल घाट, झुनझुनवाला घाट, धोबी घाट, पेठिया बाजार घाट, पीपापुल घाट, सीढ़ी घाट, चाई टोला घाट, बी एस कालेज घाट, थाना पर घाट, इमलीतल घाट, बड़ी मछुआ टोली घाट, गोला घाट, सप्लाई घाट, छोटी मछुआ टोली घाट, काली घाट और अवस्थी घाट शामिल हैं।ड्ढr ड्ढr नगर निगम ने शुरू की घाटों की सफाईड्ढr पटना (हि.प्र.)। महापर्व छठ को लेकर गंगा घाटों की सफाई का कार्यक्रम शुरू कर दिया गया है। नगर आयुक्त ने गुरुवार को दिन भर इस कार्य को बेहतर ढंग से संचालित करने के लिए पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इस बार छठ पर्व को लेकर गंगा नदी के 72 घाटों को साफ करने का कार्य शुरू किया गया है। इस कार्य को पूरा कराने पर 25 लाख रुपये खर्च किए जायेंगे। इसका प्राक्कलन तैयार कर लिया गया है। घाटों पर दलदली भाग में बालू व बांस की चाली रखी जाएगी, साथ ही घाटों पर उगी झाड़ियों को भी काटकर हटाया जा रहा है। निगम ने गंगा घाटों के अलावा तालाबों की भी सफाई कराने की योजना बनायी है। इसके तहत वार्ड 10 स्थित तालाब, मानिकचंद तालाब व मीठापुर कृषि फार्म स्थित तालाब को साफ कराने की योजना पर कार्य एक-दो दिनों में शुरू कर दिया जाएगा। निगम प्रशासन का कहना है कि श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए घाटों को व्यवस्थित किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अभी तक घोषित नहीं हुए खतरनाक घाट