अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अररिया में राहत के लिए प्रदर्शन

बाढ़ राहत शिविरों को बंद किए जाने एवं बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत नहीं पहुंचने के कारण सुपौल जिले के हाारों बाढ़पीड़ितों ने गुरुवार को लोक चेतना मंच के नेतृत्व में प्रखंड मुख्यालय परिसर में प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों का कहना था कि छातापुर प्रखंड के प्रतापनगर, रामपुर के वार्ड नं. 0, 11, 12, 13 , 14 में मुखिया मो. हासीम एवं बीडीओ जफर रकीब की मिलीभगत से राहत का एक दाना व नगदी एक रुपया भी बाढ़पीड़ितों को नहीं मिला है। जब बाढ़पीड़ित राहत मांगने इंद्रपुर शिविर गये तो मुखिया ने पुलिस बुलावाकर पिटवाया।ड्ढr ड्ढr मुरलीगंज केनाल के तीस आर डी के पूरब से इन तीन हाार बाढ़ पीड़ितों की हालत भूखे मरने की जसी है। बाढ़ पीड़ितों का कहना है कि प्रखंड से सटे बाढ़ राहत शिविरों में तबतक चालू रखा जाये। जबतक कुशहा बांध नहीं बंध जाता। प्रदर्शनकारी युवा लोक चेतना मंच के नेतृत्व में हाारों की संख्या में अनंत चौक से नरपतगंज मुख्य बाजार होते हुए प्रखंड मुख्यालय परिसर पहुंचकर प्रदर्शन का नेतृत्व युवा लोक चेतना मंच के संयोजक चंद्रेश कुमार उर्फ बाबी कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों में मिथिलेश कुमार सिंह, शकलदेव मंडल, जस्सीमुद्दीन, असगर अली, रवैरूल, बसर, वारीक, गणेश मंडल, राजेश गुप्ता, सनोज, पिंकू समेत हाारों लोग शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अररिया में राहत के लिए प्रदर्शन