अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्ल्ड यूथ शतरंचा में भी लहराया परचम

विश्वनाथन आनंद के विश्व चैंपियन बनने के ठीक दो दिन बाद हमें शतरां की दुनिया से एक और खुशखबरी मिलती है। पता चलता है कि हमार चार और युवा शतरां खिलाड़ी विश्व चैंपियन बन गए। आनंद से शतरां की प्रेरणा लेते हुए बढ़े हुए इन युवा खिलाड़ियों ने दिखा दिया के वे भी भविष्य के आनंद हैं। दिखा दिया कि शतरां में भारत के बराबर अब कोई नहीं। वियतनाम के वुंग ताऊ शहर में गुरुवार को सम्पन्न हुई वर्ल्ड यूथ शतरां चैंपियनशिप में भारत ने चार स्वर्ण, दो रात और दो कांस्य पदक जीत भारतीय तिरंगे को बुलंद किया। अंडर-14 वर्ग में बालक और बालिका दोनों वर्गो में हम विश्व चैंपियन बने तो अंडर-12 और अंडर-16 बालक वर्ग में भी भारत का परचम लहराया। अंडर-14 वर्ग में पदमिनी राउत (बालिका) और विदित संतोष गुजराती (बालक) विश्व चैंपियन बने तो अंडर-16 में बी. अधिबन और अंडर-12 वर्ग में सायंतन दास ने दुनिया में भारतीय शतरां की श्रेष्ठता सिद्ध की। इनके अलावा एस.पी. सेतुरामन (अंडर-16 बालक) और आर. प्रीति (अंडर-18 बालिका) ने रात पदक जीते। प्रत्युषा बोडा और देबाशीष दास ने क्रमश: अंडर-12 बालक और अएंडर-16 बालिका वर्ग में कांस्य पदक जीते। इसके साथ ही भारत ने ओवरऑल ट्रॉफी भी अपने नाम की।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वर्ल्ड यूथ शतरंचा में भी लहराया परचम