DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भागलपुर विवि की होगी विजिलेंस इंक्वायरी

भागलपुर विवि की विजिलेंस इंक्वायरी हो सकती है। राजभवन ने विजिलेंस इंक्वायरी के लिए स्वीकृति दे दी है। अब राज्य सरकार को अगला कदम उठाना है। इंक्वायरी के दायर में कुछ वित्तीय के अलावा प्राचार्यो की नियुक्ित का मामला भी शामिल माना जा रहा है। इस संबंध में बीते हफ्ते विवि सिंडिकेट के एक प्रतिनिधिमंडल ने कुलाधिपति से मिलकर विवि प्रशासन पर वित्तीय मामलों और नियुक्ित में अनियमितता के आरोप लगाए थे। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार राजभवन ने अपनी स्वीकृति में कहा है कि एमएलसी डा. शारदा प्रसाद सिंह के नेतृत्व में आए सिंडिकेट सदस्यों द्वारा भागलपुर विवि प्रशासन पर लगाए गए आरोपों की विजिलेंस से जांच कराई जाए।ड्ढr ड्ढr डा. शारदा प्रसाद सिंह के नेतृत्व में सिंडिकेट सदस्यों डा. अरुण कुमार सिंह, डा. विलक्षण रविदास, डा. गुरुदेव पोद्दार और डा.नीलू कुमारी ने कुलाधिपति को ज्ञापन दिया था जिसमें विवि प्रशासन पर प्राचार्यो की नियुक्ित, स्थानांतरण, परीक्षा नियंत्रक की नियुक्ित, डिप्टी रािस्ट्रार की नियुक्ित और टीएनबी लॉ कॉलेज में लेक्चरर की नियुक्ित के अलावा सिंडिकेट की अनुमति के बिना राशियों के खर्च और अन्य वित्तीय मामलों में अनियमितता के आरोप लगाए गए थे। सििडकेट सदस्यों ने कुलाधिपति को यह ज्ञापन 21 अक्टूबर को दिया था। कुलाधिपति से मिलने से पहले 10 सिंडिकेट सदस्यों ने संवाददाता सम्मेलन में विवि प्रशासन पर उपयरुक्त आरोप लगाए थे। सिंडिकेट सदस्यों ने कहा था कि प्राचार्यो की नियुक्ित के लिए जारी अधिसूचना में कहा गया है कि नियुक्ित सिंडिकेट के अनुमोदन की प्रत्याशा में की जा रही है जबकि प्राचार्यो की नियुक्ित वाले दिन ही सिंडिकेट की बैठक हुई थी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भागलपुर विवि की होगी विजिलेंस इंक्वायरी