DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में रिकार्ड गिरावट

अंतर बैंकिंग विदेशी मुद्रा बाजार में गिरते रुपए को थामने के लिए रिजर्व बैंक के हस्तक्षेप के चलते देश के विदेशी मुद्रा भंडार में 24 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 15 अरब 47 करोड़ 10 लाख डालर की रिकार्ड गिरावट आई और यह 258 अरब 41 करोड़ 50 लाख डालर के बराबर रह गया। विदेशी मुद्रा भंडार में पिछले पांच सप्ताह से निरंतर गिरावट का रुख है और मई के अंतिम सप्ताह के 316 अरब 17 करोड़ 10 लाख डालर के रिकार्ड स्तर से तुलना की जाए तो इसमें 57 अरब 75 करोड़ 60 लाख डालर की भारी गिरावट आ चुकी है। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि डालर के मुकाबले रुपए में तेजी से आ रही गिरावट को थामने के लिए रिजर्व बैंक के विदेशी मुद्रा बाजार में हस्तक्षेप के परिणामस्वरूप विदेशी मुद्रा भंडार में कमी एक प्रमुख कारण है। विदेशी संस्थागत निवेशकों के देश के शेयर बाजारों में निरंतर निकासी किए जाने से रुपया भारी दबाव में है। विदेशी संस्थान इस वर्ष 13 अरब 10 करोड़ डालर की निकासी कर चुके हैं और इस कारण डालर के मुकाबले रुपया 20 प्रतिशत से अधिक कमजोर पड़ चुका है। पिछले साल विदेशी संस्थानों के 17 अरब 40 करोड़ डालर के निवेश के बूते डालर के मुकाबले रुपया 12 प्रतिशत उछला था। इससे पहले दस अक्टूबर को समाप्त हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में रिकार्ड नौ अरब रोड़ 70 लाख डालर का नुकसान हुआ था। तीन अक्टूबर को समाप्त अवधि में विदेशी मुद्रा भंडार सात अरब 87 करोड 80 लाख डालर घटा था। रिजर्व बैंक के आंकडों के अनुसार 17 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार में 273 अरब 88 करोड़ 60 लाख डालर के बराबर विदेशी मुद्रा थी, जो पिछले साल 26 अक्टूबर को 262 अरब 45 करोड़ डालर के समान थी। आंकडों के मुताबिक आलोच्य अवधि में विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां पहले के 264 अरब 86 करोड़ 10 लाख डालर से घटकर 24अरब 3रोड़ 40 लाख डालर के बराबर रह गई। पिछले साल समान अवधि में यह 254 अरब 62 करोड 0 लाख डालर थी। इस दौरान सोना भंडार आठ अरब 56 करोड़ 50 लाख डालर पर टिका रहा जबकि विशेष निकासी अधिकार की राशि 50 लाख डालर बढ़कर 0 लाख डालर पर पहुंच गई। पिछले साल इन मदों में राशि क्रमश: सात अरब 36 करोड़ 70 लाख डालर तथा एक करोड़ 30 लाख डालर थी। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के पास सुरक्षित राशि भी 45 करोड़ 60 लाख डालर की तुलना में घटकर 44 करोड़ 70 लाख डालर रह गई। इस कोष में पिछले साल 44 करोड़ 10 लाख डालर की राशि थी। एशिया में विदेशी मुद्रा भंडार के मामले में देश का चौथा स्थान है। चीन इस मामले में एशिया में प्रथम स्थान पर है जबकि जापान और ताईवान इसके बाद हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: देश के विदेशी मुद्रा भंडार में रिकार्ड गिरावट