अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दवा कंपनियों के ‘जहर’ ने ली गायों की जान

मेडीकल वेस्ट को खुले में फेंके जाने का भयानक परिणाम शनिवार सुबह सामने आया। सिहानी गांव के पास करीब सौ गाएं सुबह तड़पती मिली। मेरठ रोड इंडस्ट्रीयल एरिया स्थित सिंहानी गांव के नजदीक शनिवार सुबह जहरीला कचरा खाने से 23 गायों की मौत हो गई तथा पचास से ज्यादा बीमार हो गईं। इनमें से तेरह गायों की हालत चिंताजनक है। डाक्टरों का दल घटना स्थल के नजदीक ही गायों का उपचार करने में देर रात तक जुटा था। जहरीला कचरा डाबर व हमदर्द कंपनी के बाहर पड़ा था। सिंहानी गेट पुलिस ने गायों के मालिक के बयान पर कंपनी प्रबंधन व कचरा कांट्रेक्टर के खिलाफ जानवर को जहर खिलाने व पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है। एसएसपी एल रवि कुमार के मुताबिक कंपनियों के एग्रीमेंट लेटर की भी जांच कराई जा रही है। अधिकारिक तौर पर तेईस गायों के मरने की पुष्टि हुई है। जबकि पीएफए (पीपुल्स फॉर एनिमल) ने तीस से अधिक गायों के मरने का दावा किया है। मृत गायों का बिसरा जांच के लिए फारंसिक लैब आगरा भेज दिया गया है। सूचना मिलने पर पुलिस और पशु चिकित्सकों की टीम मौके पर पहुंची। पचास से अधिक गायों का प्राथमिक उपचार किया गया। ये गाय दो दिन पहले धौलाना से यहां आई थी। गायों की मौत की खबर सुनकर शिवसेना और पीएफए के कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे। उनके रोष को देखते हुए पुलिस बल को भी तैनात किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दवा कंपनियों के ‘जहर’ ने ली गायों की जान