DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्मोकिंग फ्री होगी राजधानी

राजधानी को शीघ्र ही धुम्रपान मुक्त क्षेत्र (स्मोकिंग फ्री जोन) घोषित किया जायेगा। जिले के सभी 55 नगर-निगम वार्डो को गैर धूम्रपान क्षेत्र बनाने के लिए कार्ययोजना तैयार की जा रही है। ‘मेक रांची-स्मोक फ्री’ विषय पर स्वास्थ्य विभाग और इंटरनेशनल यूनियन की ओर से आयोजित सेंसेटाइजेशन वर्कशॉप में मुख्य अतिथि स्वास्थ्य मंत्री भानू प्रताप शाही ने कहा कि वह रांची को पूरी तरह से धूम्रपान मुक्त क्षेत्र बनाना चाहते हैं। पहले चरण में रांची और फिर पूर झारखंड को स्मोकिंग फ्री जोन बनाया जायेगा। स्वास्थ्य विभाग ने इसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया है। होटल कैपिटोल हिल में आयोजित वर्कशॉप में विधायक सीपी सिंह, मेयर रमा खलखो सहित कई एनजीओ के प्रतिनिधि उपस्थित थे।ड्ढr विधायक सीपी सिंह ने कहा कि एक तरफ सरकार धूम्रपान पर रोक लगाने की बात तो करती है, पर तम्बाकू पदार्थो के उत्पादन पर रोक नहीं लगाती। यह समझ से पर है। उन्होंने सरकार का ध्यान इस ओर भी देने की बात कही। झारखंड में पोस्ता आदि की खेती पर भी प्रतिबंध की बात श्री सिंह ने कही। मेयर रमा खलखो ने बच्चों और युवाओं में बढ़ रही नशे की प्रवृति को धातक बताते हुए उनके जागरूकता लाने पर बल दिया। स्वास्थ्य सचिव डॉ प्रदीप कुमार ने कहा कि हर साल लाखों लोगों की मौत धूम्रपान के कारण हो रही है। इसे रोकने के लिए लंबी लड़ाई लड़नी होगी। कंयूमर अवेयरनेस प्रोग्राम से जुड़े बिजोन मिश्रा ने कहा कि एंटी टोबेको कानून का मतलब सिर्फ यह नहीं है कि नशे की लत पकड़ चुके लोगों को दंडित करना, बल्कि हाथ पकड़कर उन्हें इसके दुष्परिणामों के बार में बताना।ड्ढr आदत छूटती ही नहीं : सीपीड्ढr सेंसेटाइजेशन वर्कशॉप में विधायक सीपी ने सैंकड़ों लोगों के सामने स्वीकार किया कि उन्हें खैनी खाने की लत है। वे छोड़ना भी चाहते हैं, पर छोड़ नहीं पाते।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: स्मोकिंग फ्री होगी राजधानी