अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीसरे चरण का थम गया चुनावी शोर

तीसरे चरण की 11 सीटों पर मतदान के लिए मंगलवार को चुनावी शोर थम गया। अब उम्मीदवारों के पक्ष में लहर बहाने के लिए संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों में उड़नखटोला पर सवार होकर न कोई दिग्गज नेता पहुंचेंगे और न ही लाउडस्पीकर पर प्रचार गीत बजेगा। मंगलवार चुनाव प्रचार का अंतिम दिन था और शाम पांच बजे नेताओं के मैराथन चुनावी दौरे पर भी रोक लग गयी। वोटिंग 30 अप्रैल को होगी। बांका संसदीय क्षेत्र के कटोरिया और बेलहर विधानसभा क्षेत्र और मुंगेर संसदीय क्षेत्र के जमालपुर विधानसभा क्षेत्र में सुबह सात बजे से अपराह्न 3 बजे तक ही वोटिंग होगी। इसलिए वहां चुनाव प्रचार मंगलवार को अपराह्न 3 बजे तक ही हो सका। बाकी सीटों के लिए शाम पांच बजे तक चुनाव प्रचार किया गया।ड्ढr ड्ढr तीसर चरण में सुपौल, मधेपुरा, अररिया, कटिहार, किशनगंज, पूर्णिया, मुंगेर, बांका, भागलपुर, बेगूसराय और खगड़िया सीट के लिए वोट डाले जाएंगे। तीसर चरण में कुल 203 उम्मीदवार मैदान में हैं जिनमें 12 महिलाएं हैं। सर्वाधिक 25 उम्मीदवार अररिया सीट पर हैं। इसके अलावा छह अन्य सीटों-पूर्णिया, मधेपुरा, बेगूसराय, खगड़िया, भागलपुर और मुंगेर से भी 16 से अधिक उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। इन सीटों पर दो बैलेट यूनिटों का इस्तेमाल होगा। तीसर चरण में 1500008 वोटर हैं जिनमें 7पुरुष और 70346महिलाएं हैं। मतदान केन्द्रों की संख्या 15275 है जिनमें 4 सहायक मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। तीसर चरण में 15735 कंट्रोल यूनिट और 25674 बैलेट यूनिट का इस्तेमाल होगा। तीसर चरण में कुल आठ विधन सभा क्षेत्रों को संवेदनशील घोषित किया गया है। इनमें किशनगंज में 6 और बांका के 2 विधान सभा क्षेत्र शमिल हैं। हालांकि मुंगेर के जमालपुर विधान सभा क्षेत्र में भी नक्सली गतिविधियों के मद्देनजर वोटिंग का समय बदला गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: तीसरे चरण का थम गया चुनावी शोर