DA Image
23 फरवरी, 2020|3:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निजी खबरिया चैनल चुस्त, दूरदर्शन सुस्त

वरेा के लिए अपने खास लोगों को विदेश भेजने का मौका ढ़ूंढने वाले दूरदर्शन प्रशासन ने अमेरिकी चुनाव के लिए डीडी न्यूज से किसी भी संवाददाता को नहीं भेजने का चौंकाने वाला फैसला किया है। हाल में 70 से अधिक रिपोर्टरों और कैमरामैन की फौा को बीजिंग ओलंपिक कवरा के लिए भेजने वाले दूरदर्शन ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव को शायद उतना महत्वपूर्ण नहीं समझा हो। लेकिन जब ‘हिन्दुस्तान’ ने इस संबंध में दूरदर्शन प्रशासन से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने चुप रहना पसंद किया। माना जा रहा है कि बीजिंग ओलंपिक में खराब कवरेज पर दूरदर्शन की तीव्र आलोचना के बाद इस सरकारी संस्थान ने फैसला किया कि इस बार किसी को भेजा ही न जाए। पहले कई मौकों पर दूरदर्शन ने अपेक्षाकृत कम महत्व की घटनाओं के कवरा के लिए अपनों को अमेरिका भेजा है। निजी चैनलों में से प्रमुख अंग्रेजी चैनलों ने अपने रिपोर्टरों को चुनाव कवरा के लिए पहले ही अमेरिका भेज दिया है। हिन्दी चैनलों में शायद एनडीटीवी इंडिया ने ही अपने संवाददाता को भेजा है। आजतक का करार वॉयस ऑफ अमेरिका से है। जिन चैनलों के रिपोर्टर नहीं गए हैं, वे एपीटीएन पर निर्भर हैं। एपीटीएन अमरीकी टीवी न्यूज एजेंसी है जो भारतीय न्यूज चैनलों को वहां से संबंधित लाइव कवरा और अन्य फुटेा की आपूर्ति कर रही हैं। हिन्दी के ‘न्यूज 24’ के एक व्यक्ित ने बताया कि उनका चैनल अमरीकी चुनाव की वृहद कवरा करगा ताकि भारतीय दर्शकों को वहां के चुनाव की विस्तृत जानकारी मिल सके।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: निजी खबरिया चैनल चुस्त, दूरदर्शन सुस्त