DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वक्त ठहर गया

चुनाव घोषित हो गए। एकाएक सब कुछ रुक गया है, जसे कोई सीडी या फिल्म रुक जाती है। इसके पहले तो उद्घाटन, भाषण, शिलान्यास, भूमि पूजन, घोषणा धड़ाधड़ हो रही थी। आधे-अधूर निर्माण कार्य ‘लोकार्पित’ हो रहे थे। भला नल देना और पीएचई ‘कनेक्शन’ न जोड़ना। बिजली के खम्बे गाड़कर तार खींचना, पावर नहीं देना। या सड़क के लिए गड्ढे खोदकर पत्थर मिट्टी चूरी डामर न करना कितना उपयोगी होता है। सब जहां का तहां छोड़कर दौड़ पड़े हैं। राजधानी में टिकट के लिए। जसे नई फिल्म लगते ही टिकट की लाइन में लगना और ब्लैक में टिकट के लिए जुगाड़ करना। कार्यकर्ता एक नहीं, सभी उम्मीदवार हैं। सेवा में कम, सेव में अधिक आस्था है। पर पार्टी के बागी उम्मीदवार ज्यादा हैं। निर्दलीय भी ढेर हैं। देश में काम-धंधे, पढ़ाई-लिखाई से ज्यादा राजनीति हो गई। समाचार वाचक भाग्य आजमाने वालों के नाम वाचन ऐसे कर रहे हैं, जसे वोटर लिस्ट पढ़ रहे हैं। घर, दीवार, चौराहे, होर्डिग पर रावण कंस के पुतलों जसे शक्लें बनी हैं। दशहरा गया और ये चेहर टंग गए। विरोधी आग लगाते। पुलिस थाने में रिपोर्ट होती। नए सिर से शस्त्र पूजन हो रहा है। पुलिस चुनावी दंगल में उतरने वालों के बीच बैरिकेट्स से ज्यादा नहीं। तहसील कोर्ट कॉलेज वाले भी जुटे हैं। कोई काम कहीं हो ही नहीं रहा। पेट्रोल फूंका जा रहा है। बिजली फूंकी जा रही है। कल के मंत्री रोड पर भिखारी की तरह बावले बने भटक रहे। दंगे आम हैं, ताकि नेता आरोप मढ़कर दोषारोपण कर। रोटी, कपड़ा, मकान रोगार के नार सब कलेवर तर्ज में देते हैं। देशभक्ित गीत बज रहे हैं। भारत में नया महाभारत नाटय़ मंचित हो रहा है। आतंकी बम विस्फोट करते हैं तो करं। चुनावी जीत के एडवांस पटाखे चल रहे हैं। आम नागरिक काम व रोी-रोटी के लिए भटक रहा है। समाचार पत्र चैनल चुनावी गणित से दिमाग खा रहे हैं। प्रिपोल बेअसर है। चुनाव पर साहित्यकार काटरूनिस्ट हास्य-व्यंग्य लिख बना रहे हैं। पूरा सांगोपांग रूपक है। नेता का भाई-भतीजा, बहू-पोते फिर टिकट लेकर आ गए। टिकट पैतृक सम्पत्ति है। पीएम सीएम के नाम उछल रहे हैं। यहां से वहां पार्टी बदल का खेल जारी है। ये ऊंट किस करवट बैठेगा? ज्योतिषी भी कन्फूान में। चुनाव का शोर कान फोड़ू है। हलक फट कर बैठ गया है। हाथ मजबूत साथ की अपीलें हैं। चुनाव चिह्न् सजीव हो गए हैं। ह्वेल या हवाई जहाज अथवा चांद-सूर्य होता तो भी क्या होता। यह चुनाव पर्व तो जितना हो उतना कम है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: वक्त ठहर गया