DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बांग्लादेश में बनी थी त्रिपुरा बम विस्फोट की योजना

त्रिपुरा में एक अक्टूबर को हुऐ सिलसिलेवार बम धमाकों के मुख्य आरोपी ने स्वीकार किया है कि विस्फोट की योजना इस साल 22 जुलाई को नेशनल डेमोक्रेटिक फं्र ट आफ बोडोलैंड (एनडीएफबी) के बंग्लादेश के मौलवी बाजार इलाके के ठिकाने पर बनाई गई थी। पुलिस अधिकारियों ने पूछताछ के दौरान मुख्य आरोपी सचिंद्र देवबर्मन की स्वीकारोक्ित की चर्चा करते हुए शुक्रवार को यहां बताया कि बंग्लादेश में विस्फोट के संबंध में हुई बैठक में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और बंगलादेश के डीजीएफआई के सदस्यों के अलावा पूवर्ोत्तर क्षेत्र के सात उग्रवादी संगठनों के सदस्यों ने भी हिस्सा लिया था और विस्फोट का ब्लूप्रिंट तैयार किया था। सचिंद्र ने खुलासा किया कि कुछ अतिवादी समूहों के सहयोग से पूर्वोत्तर के उग्रवादी जाली नोटों का नेटवर्क फैला रहे हैं और देश में अस्थिरता पैदा करने की कोशिशों में जुटे हुए हैं। उसने यह भी बताया कि इस वर्ष की शुरुआत में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों द्वारा गिरफ्तार सगम अली को विस्फोट की योजना से संबंधित कायर्ों के लिए ही भारत भेजा गया था। इस बीच अगरतला की एक अदालत ने गुरुवार बम धमाकों के सभी नौ अरोपियों की जमानत अर्जी खारिज करते हुए उन्हें 20नवंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बांग्लादेश में बनी थी त्रिपुरा बम विस्फोट की योजना