अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खातूनों ने मौलानाओं पर निकाली भड़ास

मुस्लिम महिलाओं ने शनिवार को इस्लाम के ठेकेदार मौलानाओं पर जमकर अपने मन की भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि इस्लाम ने उन्हें भी मर्दो के समान बराबरी का दर्जा दिया है और पाबंदियों के बहाने उन्हें तरक्की करने से न रोकें। इकरा इंटरनेशनल वुमेन्स एलाइंस की ओर से आयोजित अंतरराष्ट्रीय मुस्लिम महिला सम्मेलन के दूसर दिन शनिवार को यहां हा हाउस में युवा महिलाओं ने युवा और धर्म विषय पर चर्चा में कहा कि उनकी शिक्षा और तरक्की में धर्म की दीवार खड़ी की जा रही है जबकि इस्लाम में उस तरह की पाबंदियां नहीं हैं जिसकी चर्चा अक्सर कुछ मौलाना करते रहते हैं। महिलाओं ने यह भी कहा कि औरतों की शिक्षा, नौकरी और शादी को लेकर तरह-तरह की गलतफहमियां फैलाई गई है,ोबकि औरतों के प्रति इस्लाम में काफी सकारात्मक बातें हैं। तरक्की के लिए आगे को तैयार महिलाओं ने मौलानाओं से अपने हक मांगे और कहा है कि उन्हें आज के वैज्ञानिक दौर में आधुनिक तरीके से तरक्की करने दिया जाए। इस सम्मेलन में इस्लामिक विद्वान भी शामिल थे और उन्होंने महिलाओं की भावनाओं की कद्र करते हुए उनके तर्क को सही ठहराया। इस्लामिक विद्वानों का भी मानना है कि मदरसों को मेनस्ट्रीम की शिक्षा से जोड़ा जाए।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खातूनों ने मौलानाओं पर निकाली भड़ास