DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोमांचक मुकाबले में एक रन से हारा वॉरियर्स

रोमांचक मुकाबले में एक रन से हारा वॉरियर्स

हरभजन सिंह की अगुआई में गेंदबाजों के दमदार प्रदर्शन की बदौलत मुंबई इंडियंस ने इंडियन प्रीमियर लीग मैच में गुरुवार को यहां मुश्किल हालात से उबरते हुए पुणे वॉरियर्स को एक रन से हरा दिया जो मेजबान टीम की लगातार चौथी हार है।

हरभजन ने चार ओवर में 18 रन देकर दो विकेट चटकाए जिससे मिथुन मन्हास (नाबाद 42, 34 गेंद, पांच चौके) की उम्दा पारी के बावजूद 121 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए पुणे की टीम छह विकेट पर 119 रन ही बना सकी। लसिथ मलिंगा ने भी 25 रन देकर दो विकेट हासिल किए।

इससे पहले पुणे वारियर्स ने भुवनेश्वर कुमार (नौ रन पर दो विकेट) और आशीष नेहरा (19 रन पर दो विकेट) की दमदार गेंदबाजी से मुंबई इंडियंस को नौ विकेट पर 120 रन पर रोक दिया था। मुंबई की ओर से सचिन तेंदुलकर (34) और जेम्स फ्रेंकलिन (25) की सलामी जोड़ी ही टिककर बल्लेबाजी कर पाई।

पुणे को मजबूत स्थिति तक पहुंचाने में उसके क्षेत्ररक्षकों की भी अहम भूमिका रही जिन्होंने विरोधी टीम के चार बल्लेबाजों को रन आउट किया। इस जीत के साथ ही मुंबई ने छह अप्रैल को वानखेड़े स्टेडियम में पुणे वारियर्स के हाथों 28 रन की शिकस्त का बदला भी चुकता कर लिया।

मुंबई की टीम इस जीत से 10 मैचों में छह जीत से 12 अंक जुटाकर अंक तालिका में तीसरे स्थान पर बरकरार है। पुणे की टीम 11 मैचों में आठ अंक के साथ आठवें स्थान पर है और उसकी नॉकआउट में जगह बनाने की संभावनाएं काफी कम हो गई हैं।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे पुणे को रोबिन उथप्पा (18) ने तेज शुरुआत दिलाई। उन्होंने मलिंगा की गेंद पर चौके से खाता खोलने के बाद मुनाफ पटेल की गेंद को छह रन के लिए भेजा लेकिन इसी तेज गेंदबाज ने अपने अगले ओवर में उन्हें पगबाधा आउट कर दिया।

माइकल क्लार्क (14) ने मुंबई के कप्तान हरभजन का स्वागत लगातार दो चौकों के साथ किया लेकिन इस आफ स्पिनर ने जेस्सी राइडर (09) को लांग ऑन पर तिषारा परेरा के हाथों कैच करा दिया। हरभजन ने अपने अगले ओवर में क्लार्क को भी पगबाधा आउट करके टीम का स्कोर तीन विकेट पर 44 रन कर दिया।

स्टीवन स्मिथ (02) भी प्रज्ञान ओझा की गेंद को आगे बढ़कर खेलने की कोशिश में चूककर बोल्ड हुए। सौरव गांगुली (16) और मन्हास ने इसके बाद पारी को संभाला। मन्हास ने ओझा, जेम्स फ्रेंकलिन और तिषारा परेरा पर चौके जड़े जबकि गांगुली ने स्ट्राइक रोटेट करने को तरजीह दी।

पुणे को अंतिम पांच ओवर में जीतने के लिए 45 रन की दरकार थी। गांगुली ने 18वें ओवर में मलिंगा की गेंद पर पारी का अपना पहला चौका जड़ा लेकिन श्रीलंका के इस गेंदबाज ने अंतिम गेंद पर उन्हें बोल्ड करके पुणे की राह मुश्किल कर दी। गांगुली ने अपनी पारी में 24 गेंद का सामना किया और एक चौका मारा।

मन्हास ने ओझा की गेंद को चार रन के लिए भेजकर दबाव कम किया। पुणे को अंतिम दो ओवर में जीत के लिए 16 रन की जरूरत थी और ऐसे में मलिंगा ने 19वें ओवर में सिर्फ चार रन खर्च करके वेन पार्नेल को पवेलियन भेजकर मुंबई का पलड़ा भारी कर दिया। भुवनेश्वर कुमार (नाबाद 10) ने अंतिम दो गेंद पर छह रन जुटाए लेकिन टीम को जीत नहीं दिला सके।

इससे पहले मुंबई की टीम एक समय 10 ओवर में दो विकेट पर 72 रन बनाकर अच्छी स्थिति में दिख रही थी लेकिन बीच के ओवरों पुणे की सधी गेंदबाजी के सामने बामुश्किल सम्मानजनक स्कोर तक पहुंच पाई। पुणे ने जोरदार वापसी करते हुए सिर्फ 12 रन जोड़कर पांच विकेट चटकाए। मुंबई की टीम अंतिम 10 ओवर में सिर्फ 48 रन जोड़ सकी।

टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरे मुंबई की शुरुआत धीमी रही। अशोक डिंडा ने पारी का दूसरा ओवर तेंदुलकर को मेडन फेंका। फ्रेंकलिन ने तीसरे ओवर में वेन पार्नेल पर पारी का पहला चौका जड़ा जिससे टीम का स्कोर 11 रन तक पहुंचा।

तेंदुलकर ने चौथे ओवर में डिंडा को निशाना बनाया और उन लगातार तीन चौके जड़े जबकि फ्रेंकलिन ने छठे ओवर में आशीष नेहरा पर एक छक्का और दो चौके मारे। तेंदुलकर ने भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर एक रन के साथ 7.2 ओवर में टीम का स्कोर 50 रन तक पहुंचाया।

भुवनेश्वर ने फ्रेंकलिन को आउट करके मुंबई को पहला झटका दिया। फ्रेंकलिन गेंद को पुल करने की कोशिश में हवा में लहरा गए और लांग आन से दौड़ लगाते हुए मिथुन मन्हास ने आसान कैच लपका। उन्होंने 23 गेंद का सामना करते हुए तीन चौके और एक छक्का जड़ा।

रोहित शर्मा (03) गैरजरूरी जोखिम उठाते हुए रन आउट हुए जबकि तेंदुलकर ने नेहरा की गेंद को लेट कट करने की कोशिश में विकेटकीपर रोबिन उथप्पा को कैच थमाया। उन्होंने 35 गेंद का सामना करते हुए चार चौके मारे।

रोबिन पीटरसन (13) भी इसके बाद नेहरा की गेंद पर कप्तान सौरव गांगुली को कैच देकर पवेलियन लौटे। भुवनेश्वर कुमार ने अंबाती रायुडू (01) को बोल्ड किया जबकि डिंडा ने हरभजन सिंह (00) की पारी का अंत किया। तिषारा परेरा खाता खोले बिना रन आउट होकर पवेलियन लौटे।

मलिंगा ने डिंडा की गेंद पर एक रन के साथ 18.2 ओवर में टीम के रनों का सैकड़ा पूरा किया। दिनेश कार्तिक (18) और मलिंगा (14) ने अंत में कुछ अच्छे शॉट खेलकर टीम को सम्माजनक स्कोर तक पहुंचाया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रोमांचक मुकाबले में एक रन से हारा वॉरियर्स