DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देशद्रोही को राज की झंडी का इंतजार

मराठी-गैरमराठी विवादों पर आधारित फिल्म देशद्रोही को सेंसर बोर्ड से प्रमाणपत्र मिल जाने के बावजूद अब महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे और मुंबई पुलिस की हरी झंडी का इंतजार है। सोमवार को स्पष्ट होगा कि यह फिल्म 14 नवंबर को रिलीज होगी या नहीं। फिलहाल ठाकर अदालती आदेश का पालन करते हुए पुलिस स्टेशनों में हाजिरी लगाने में व्यस्त हैं। मगर रविवार को यह फिल्म देखने के बाद ठाकर के वकील अ्िरखलेश चौबे ने मीडिया को बताया कि फिल्म के प्रोमो में जिस तरह से आपत्तिजनक बातें दिख रही थी उस तरह से फिल्म में नहीं है। फिर भी उन्हें फिल्म के तीन अंशों पर आपत्ति है जिससे बेवजह मराठी और गैरमराठियों की भावनाओं को ठेस पहुंच सकती है। इस पर वह ठाकर और मनसे के कानूनी सलाहकार वकील पराग प्रधान से चर्चा करने के बाद सोमवार को राय जाहिर करंगे। यह फिल्म शनिवार को मुंबई पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी देखी थी और वे भी अपनी रिपोर्ट सोमवार को देने वाले हैं। इधर महाराष्ट्र के गृहमंत्री आरआर पाटील ने कहा है कि पुलिस की रिपोर्ट आने के बाद ही राज्य सरकार अपना फैसला सुनाएगी। मराठी के मुद्दे पर मनसे के कार्यकर्ताओं ने जिस तरह से पूर महाराष्ट्र में उत्पात मचाकर माहौल तनावपूर्ण बनाया हुआ है उससे पुलिस सहमी हुई है कि इस फिल्म के प्रदर्शन से मनसे के कार्यकर्ता फिर न भड़क जाएं। लेकिन मौके की नजाकत को देखते हुए मनसे ने राजनीतिक लाभ लेने के लिए शिवसेना प्रमुख बाल ठाकर की स्टाइल में फिल्म का विरोध कर दिया। रविवार को मनसे के लीगल सेल ने फिल्म देखी और वकील चौबे ने कहा कि विवादित तीन अंशों को अगर फिल्म से निकालने की राय बनती है तो निर्माता को एसा करना पड़ेगा। अगर विवादित अंशों को नहीं निकाला गया तो फिर फिल्म के खिलाफ बांबे हाई कोर्ट में अर्जी दी जाएगी। इधर फिल्म के निर्माता व अभिनेता कमाल खान के मुताबिक न तो पुलिस को और न ही मनसे को उनकी फिल्म से कोई शिकायत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: देशद्रोही को राज की झंडी का इंतजार