अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शबरीधाम आश्रम: स्वामी भी शक के घेर में

मालेगांव ब्लास्ट से जुड़े लोगों के बड़े नेटवर्क और नांदेड़ में हुए बम ब्लास्ट से उनके तार जुड़े होने का पर्दाफाश करने के बाद जांचकर्ताओं की नजर अब उन 54 संदेहास्पद लोगों पर है, जिन्होंने नागपुर के मिलिट्री स्कूल में हथियारों के संचालन की ट्रेनिंग ली थी। माना जा रहा है कि इनमें से कुछ मालेगांव और नांदेड़ में हुए धमाकों में शामिल थे। मालेगांव धमाकों में डांग्स का शबरीधाम आश्रम भी संदेह के घेर में आ गया है। महाराष्ट्र के आतंक निरोधी दस्ते (एटीएस) ने आश्रम के कुछ सदस्यों से पूछताछ की है।ड्ढr ड्ढr बताया जाता है कि यह आश्रम स्वामी अश्मिानंद की ओर से संचालित है और एटीएस को उन पर साध्वी प्रज्ञा के सहयोगी रामजी उर्फ रामसु को संरक्षण देने का संदेह हैं। इस बीच, एटीएस साध्वी प्रज्ञा समेत मालेगांव धमाकों में गिरफ्तार किए गए सभी नौ लोगों पर मकोका लगाने का विचार कर रहा है। मालूम हो कि 2सितंबर को मालेगांव में हुए ब्लास्ट में 6 लोगों की जान गई थी। की जांच में संदिग्धों के लिए कहा गया कि इन 54 लोगों को 2001 में ह्थियारों के संचालन और विस्फोट करने के तरीके का प्रशिक्षण भोंसाला मिलिट्री स्कूल में दिया गया था। आशंका जाहिर किया जा रहा है कि इनमें से कुछ लोग क्रमश: 2008 और 2006 में मालेगांव और नांदेड़ विस्फोटों में भी शामिल थे। लेफ्टिनेंट कर्नल श्रीकांत पुरोहित के बरामद लैपटॉप में इन सभी 54 लोगों के नाम दर्ज हैं। दिल्ली में सीबीआई के निदेशक अश्वनी कुमार ने बताया कि जांच एजेंसी मालेगांव और नांदेड़ के ब्लास्ट के तार जुड़े होने की जांच कर रही है।ड्ढr ड्ढr इस सिलसिले में जब भोंसला मिलिट्री स्कूल के निदेशक सुरश जोगलेकर से संपर्क किया गया तो उनका कहना था कि एटीएस के द्वारा पूछे गये सवाल का वे जवाब दे चुके हैं कि बजरंग दल ने 2001 में यहां एक कैंप आयोजित किया था। उधर मालेगांव ब्लास्ट मामले में अब तक गिरफ्तार आठ लोगों में से पांच को सोमवार को फिर नासिक कोर्ट में पेश किया जाएगा। मेजर (सेवानिवृत्त) रमेश शिवाजी उपाध्याय, समीर कुलकर्णी, अजय एकनाथ, राकेश दत्तात्रेय, जगदीश चिंतामन महात्रे की पुलिस रिमांड अवधि 10 नवंबर को समाप्त हो रही है। उपाध्याय का संपर्क इस मामले में गिरफ्तार सेना में सेवारत लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित से है। सूत्रों के अनुसार नासिक के भोंसला मिलिट्री स्कूल में मालेगांव ब्लास्ट की साजिश रची गई थी और इसे अंजाम देने के लिए हुई अभिनव भारत संगठन की बैठक में उपाध्याय भी शामिल हुआ था। विगत 16 सितंबर को हुई इस बैठक में समीर कुलकर्णी ने भी भाग लिया था। सूत्रों के अनुसार अजय से पुलिस ने जो हथियार बरामद किये हैं, उसे पुरोहित ने ही उपलब्ध कराया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: शबरीधाम आश्रम: स्वामी भी शक के घेर में