DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीन ने माना अग्नि-5 का लोहा

चीन ने माना अग्नि-5 का लोहा

चीनी विशेषज्ञों को लगता है कि भारत की परमाणु-क्षमता वाली मिसाइल अग्नि-5 की मारक क्षमता जितनी बताई जा रही है उससे कहीं अधिक है। एक चीनी शोधकर्ता का कहना है कि इस मिसाइल में दरअसल 8,000 किलोमीटर दूरी तक के लक्ष्य को निशाना बनाने की क्षमता है।

चीन की पीएलए एकेडमी ऑफ मिलिट्री साइंसेज के शोधकर्ता डू वेनलांग ने 'ग्लोबल टाइम्स' से कहा कि वास्तव में अग्नि-5 की 8,000 किलोमीटर दूरी तक के लक्ष्य को भेदने की क्षमता है। उन्होंने कहा, ''अन्य देशों में इसे लेकर चिंता न बढ़े इसलिए भारत सरकार ने जानबूझकर इस मिसाइल की मारक क्षमता कम बताई है।''

भारत ने गुरुवार को अग्नि-5 मिसाइल का सफल परीक्षण किया। इस मिसाइल के 5,000 किलोमीटर से दूर के लक्ष्य को निशाना बनाने में सक्षम होने की बात कही गई है। इसके साथ ही भारत ने इस क्षमता से पहले से सम्पन्न राष्ट्रों के विशेष समूह में प्रवेश कर लिया है।

पीपल्स लिबरेशन आर्मी नेशनल डिफेंस विश्वविद्यालय में प्रोफेसर झांग झाओजोंग ने 'ग्लोबल टाइम्स' से कहा कि चीन के मानक के मुताबिक एक अंतर-महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) की मारक क्षमता कम से कम 8,000 किलोमीटर होनी चाहिए। उन्होंने कहा, ''अग्नि-5 को आईसीबीएम बनाने के लिए उसकी मारक क्षमता और बढ़ाई जा सकती है।''

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीन ने माना अग्नि-5 का लोहा