DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘सार्वजनिक उपक्रम सरकारी बैंकों में रखें धन’

आर्थिक संकट से जूझती अर्थव्यवस्था को पटरी पर बनाए रखने के क्रम में वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने मंगलवार को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के प्रमुखों से बैठक कर उनके पास उपलब्ध नकदी का कम से कम 60 प्रतिशत हिस्सा सरकारी क्षेत्र के बैंकों में रखने को कहा है। प्रधानमंत्री मनमोहन सिहं ने आर्थिक संकट पर चर्चा के लिए इसी महीने के शुरु में प्रमुख उद्योगपतियों को चर्चा के लिए बुलाया था। वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने भी उनके साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की। उसके बाद चिदंबरम ने सरकारी क्षेत्र के बैंक प्रमुखों के साथ विचार-विमर्श कर उन्हें कर्ज पर ब्याज दरें कम करने के लिए मनाया। उसी कड़ी में मंगलवार को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के साथ बैठक बुलाई गई थी। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस सचिव आरएस शर्मा ने बैठक के बाद बताया कि सार्वजनिक उपक्रमों से कहा गया है कि अपने पास उपलब्ध अधिशेष मोटी राशि को बैंकों के पास जमा करते समय वह बैंकों से ऊंची ब्याज दर के लिए तकाजा नहीं करें। सरकारी क्षेत्र के बैंकों के पास इससे कम लागत की पूंजी उपलब्ध होगी जिसे वह आगे उद्योगों को निम्न दर पर उपलब्ध करा सकेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ‘सार्वजनिक उपक्रम सरकारी बैंकों में रखें धन’