DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्लम एरिया भी तय करेंगे प्रत्याशियों का भविष्य

नगरपालिका चुनाव में प्रत्याशियों को अपनी जीत सुनिश्चित करने के लिए सिर्फ पॉश इलाकों के वोटरों के पास ही नहीं, बल्कि क्षेत्र के सफाईकर्मियों के दर पर भी जाना होगा। स्लम एरिया में रहने वाले इन वोटरों के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने भी विशेष व्यवस्था करने को कहा है। खासबात यह है कि शहरी क्षेत्र के जिन मोहल्लों या इलाकों में सफाईकर्मियों की संख्या 50 भी होगी तो वहां एक अलग मतदान केन्द्र स्थापित किया जाएगा।

आयोग ने जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि जिलों से आने वाले प्रस्ताव में ऐसे मतदान केन्द्रों की संख्या एवं स्थान का अलग से जिक्र किया जाएगा। राज्य के विभिन्न शहरों में स्लम की संख्या 1846 है और वहां की आबादी करीब साढ़े नौ लाख है। आयोग के निर्देश के अनुसार इन सभी इलाकों में बूथ बनाया जाना है। बूथों पर सशस्त्र बलों की तैनाती की जाएगी।

जिला निर्वाचन पदाधिकारियों को यह भी कहा गया है कि मतदान केन्द्रों की स्थापना संबंधी प्रस्ताव में वे इस बात का ध्यान रखेंगे कि जो भी मतदान केन्द्र स्थापित किए गए हैं वहां वर्ष 2007 के आम निर्वाचन में कोई हिंसात्मक कार्रवाई या बूथ लूट अथवा कमजोर वर्ग के मतदाताओं को जबरन मतदान से रोकने की कोई घटना नहीं हुई हो। अगर ऐसी घटनाएं हुई हो तो जहां तक संभव हो उन स्थानों पर मतदान केन्द्र की स्थापना नहीं की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्लम एरिया भी तय करेंगे प्रत्याशियों का भविष्य