DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली डेयरडेविल्स के प्रचार से दिल्ली मेट्रो में खलबली

दिल्ली डेयरडेविल्स के कप्तान वीरेंद्र सहवाग ने टीम के साथियों के साथ प्रचार अभियान के अंतर्गत शुक्रवार को दिल्ली मेट्रो में सफर करने का फैसला किया लेकिन यह प्रचार मेट्रो के यात्रियों और सुरक्षाकर्मियों के लिये परेशानी का सबब बन गया।

मेट्रो में यात्रा के दौरान किस तरह से व्यवहार किया जाये और किन बातों का ध्यान रखा जाये, डेयरडेविल्स के खिलाड़ी इस बारे में यात्रियों को जागरूक करने के लिये इस प्रचार अभियान का हिस्सा बने थे।

दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) ने दिल्ली डेयरडेविल्स से इसलिये करार किया था ताकि ट्रेन और प्लेटफार्म को साफ सुथरा रखने, ट्रेन के दरवाजों में बाधा नहीं बनने और प्लेटफार्म पर पीली रेखा से पीछे खड़े होने की जागरूकता बढ़ायी जा सके। लेकिन जैसे ही डेयरडेविल्स टीम के सदस्य आईएनए स्टेशन पर मेट्रो में चढ़े, यह उद्देश्य ही खत्म हो गया।

सैकड़ों प्रशंसक क्रिकेटरों को देखने के लिये उनके चारों ओर इकटठा हो गये और आटोग्राफ लेने के लिये एक दूसरे को धक्का देते हुए खिलाडियों के करीब आने लगे जिससे हालात काबू से बाहर हो गये।

मेट्रो का अंतिम डिब्बा क्रिकेटरों के लिये रिजर्व रखा गया था, जैसे ही ट्रेन आयी डिब्बे के अंदर तैनात पुलिसकर्मी भीड़ और मीडिया को नियंत्रित नहीं कर सके और सभी क्रिकेटरों के साथ ट्रेन में घुस गये। क्रिकेटरों ने मेट्रो में आईएनए से उद्योग भवन तक दो स्टेशन के सफर में कुछ बात नहीं की और वे चुप ही रहे।

सहवाग अपना सिर नीचे किये हुए थे और उन्होंने टीम के साथियों से भी बात नहीं की जबकि इरफान पठान, उमेश यादव और योगेश नागर ने प्रशंसकों का केवल हाथ हिलाकर अभिवादन किया। प्रचार अभियान के बाद क्रिकेटर एक भी शब्द बोले बिना मेट्रो स्टेशन से निकले जिससे प्रशंसक और मीडिया असंतुष्ट दिखे लेकिन सुरक्षाकर्मी इससे काफी राहत महसूस कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली डेयरडेविल्स के प्रचार से मेट्रो में खलबली