DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई में बिहार दिवस पर सियासत तेज

मुंबई में बिहार दिवस पर सियासत तेज

मुंबई में बिहार दिवस मनाने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुंबई दौरे पर सियासत तेज हो गई है। एक तरफ जहां राज ठाकरे ने नीतीश को चुनौती दी है वहीं शिवसेना टकराव के मूड में नहीं है।

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने नीतीश कुमार को चुनौती देते हुए कहा है कि वह 15 अप्रैल को मुंबई आकर दिखाएं। उनके जवाब में जदयू नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने राज ठाकरे की आलोचना करते हुए कहा है कि मुंबई किसी की बपौती नहीं है और कोई भी कहीं भी जा सकता है।

कांग्रेस भी इस मसले को ज्यादा तूल देने के पक्ष में नहीं है। कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने कहा है कि नीतीश बिहार के मुख्यमंत्री हैं और अगर वह मुंबई आते हैं तो उन्हें हर जरूरी सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी।

उधर शिव सेना ने मुंबई में प्रस्तावित बिहार दिवस समारोह को लेकर गैर टकराववादी रुख पेश किया।
शिव सेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा कि यदि बिहार के लोग महाराष्ट्र में बिहार दिवस मनाना चाहते हैं तो उन्हें बिहार में महाराष्ट्र दिवस भी मनाना चाहिए।

ठाकरे ने कहा, ''बिहार दिवस 15 अप्रैल को है, जबकि महाराष्ट्र दिवस पहली मई को पड़ता है। मैं नीतीश कुमार से सिर्फ यह कहना चाहता हूं कि आप बिहार लौटकर अपने राज्य में महाराष्ट्र दिवस भी मनाएं और हमारे मुख्यमंत्री को उसमें आमंत्रित करें। ऐसा कहा जा रहा है कि यहां बिहार दिवस मनाने से अच्छा वातावरण तैयार होगा। इसलिए महाराष्ट्र दिवस भी मनाइए ताकि पूरे देश में एक अच्छा वातावरण तैयार हो।''


पिछले दो सप्ताहों से मनसे बिहार दिवस समारोहों का मुखर विरोध कर रही है और यहां तक कि उसने नीतीश कुमार को मुम्बई में प्रवेश करने की चेतावनी तक दे दी है। मनसे के इस रुख के बाद नीतीश कुमार ने पिछले सप्ताह अपनी प्रतिक्रिया में कहा था कि वह देश में कहीं भी जाने के लिए स्वतंत्र हैं और मुम्बई जाने के लिए उन्हें किसी वीजा की आवश्यकता नहीं है।

समाजवादी पार्टी (सपा) की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष अबु आसिम आजमी ने जहां राज ठाकरे की गिरफ्तारी की मांग की है, वहीं सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर ने मनसे प्रमुख के खिलाफ उनकी बिहार विरोधी टिप्पणी के लिए कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

इस बीच राजनीतिक बयानबाजियों के बावजूद मुम्बई में बिहार दिवस की तैयारी जारी है, जहां 3 लाख से अधिक बिहारी प्रवासियों के समारोह में उपस्थित होने का अनुमान है। समारोह पूर्वी उपनगर, विद्याविहार में स्थित सोमैया मैदान में होना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुंबई में बिहार दिवस पर सियासत तेज