DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंगलूरू में जिंदगी की जंग हारी मासूम आफरीन

बंगलूरू में जिंदगी की जंग हारी मासूम आफरीन

बेरहम पिता की पिटाई से बुरी तरह जख्मी मासूम आफरीन बुधवार को जिंदगी की जंग हार गई। तीन महीने की मासूम बेबी आफरीन पिछले चार दिन से आईसीयू में भर्ती थी।

आफरीन की मां रेशमा ने उसके पिता उमर फारूक पर अपनी ही बच्ची को पीटने का आरोप लगाया था। बच्ची को खून की उल्टी होने और सांस लेने में तकलीफ होने के चलते स्थानीय अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था।

रेशमा ने शिकायत में बताया था कि उमर को बेटे की चाह थी और वह बच्ची के जन्म लेने से खुश नहीं था। रेशमा ने बताया था कि उमर से उसकी शादी 2010 में हुई थी।

उमर बेटी नहीं चाहता था इसलिए जब आफरीन का जन्म हुआ तो उसने रेशमा को धमकाना और पीटना शुरू कर दिया। यहां तक कि उसने रेशमा से दहेज के रूप एक लाख रुपये की मांग भी की और मांग पूरी न कर पाने की स्थिति में जान से मारने की धमकी भी दी थी।

गौरतलब है कि इससे पहले 56 दिन तक एम्स में भर्ती रहने के बाद इस साल 16 मार्च को दो वर्षीय बच्ची फलक की मौत हो गई थी। उसे सिर में गंभीर चोट लगने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था और दोनों हाथ टूटे हुए थे साथ ही पूरे शरीर पर दांतों से काटने के निशान थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जिंदगी की जंग हारी मासूम आफरीन