DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'वादे पूरे करने पर ही होगी इतावली नागरिक की रिहाई'

'वादे पूरे करने पर ही होगी इतावली नागरिक की रिहाई'

नक्सलियों ने ओडिशा सरकार से दो टूक कहा है कि यदि वह इतावली नागरिक को उनके चंगुल से आजाद कराना चाहती है तो उसे वादे पूरे करने होंगे। इतावली नागरिक 14 मार्च से ही नक्सलियों के कब्जे में हैं।

सुनील के नाम से मशहूर नक्सल नेता सब्यसाची पांडा ने अपने हाल के ऑडियो संदेश में कहा कि उसके गिरोह को सरकार और मध्यस्थों के बीच हुए समझौते की प्रति नहीं मिली है, लेकिन उसे इसमें शामिल बातों की जानकारी है।

पांडा ने कहा कि समझौते में नक्सलियों की ओर से रखी गई 13 मांगों पर चर्चा हुई। उसने नक्सल गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार पांच कैदियों को रिहा करने के सरकार की पहल का स्वागत किया, हालांकि उसने सात कैदियों को रिहा कराने की मांग की थी।

पांडा ने कहा कि इतावली नागरिक बोसुस्को पाउलो को तभी छोड़ा जाएगा, जब सरकार अपने वादे पूरे करेगी। नक्सल नेता ने हालांकि इसके लिए सरकार को दिए गए अल्टीमेटम की समयावधि में विस्तार नहीं किया, जो मंगलवार शाम ही समाप्त हो गई।

पांडा का यह बयान एक अदालत द्वारा उसकी पत्नी सुभाश्री दास को वर्ष 2003 के पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में उसकी संलिप्तता के आरोपों से बरी किए जाने के एक दिन बाद आया है। नक्सलियों ने जिन कैदियों की रिहाई की मांग की है, उनमें एक सुभाश्री भी है।

इस बीच, राज्य में सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) के विधायक झिना हिकाका के बारे में अनिश्चितता अब भी बरकरार है। वह 24 मार्च से ही नक्सलियों के एक अलग गिरोह की कैद में हैं। इस गिरोह ने हिकाका को छोड़ने की सरकार की अपील का अब तक जवाब नहीं दिया है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'वादे पूरे करने पर ही होगी इतावली नागरिक की रिहाई'