DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गलत बोले तो हमको फांसी दे दें बागुन

धारा के विपरीत चलने और कुछ भी बयान देने में माहिर कांग्रेस सांसद बागुन सुंब्रुई ने पूर्व मुख्यमंत्री अजरुन मंडा को खुली चुनौती दे डाली। कहा कि यदि हम गलत बोल रहे हैं, तो फांसी दे दो। वह मोरहाबादी मैदान में डोकलो सोहोर महासमिति द्वारा आयोजित सीएनटी एक्ट शताब्दी समारोह सह रैली में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि अजरुन मुंडा आदिवासी नहीं, तमड़िया हैं, जो पिछड़ी जाति है। चुनाव जीतने के लिए पातर आदिवासी बन गये। इ लोग कइसे पातर बना, मुख्यमंत्री इसकी जांच करायें। ऊ नकली आदिवासी हैं, इसीलिए इस रैली में नहीं आये। एमएलए, एमपी बनना रहता है, तो आदिवासी बन जाते हैं और जब जमीन बेचना होता है, तो पिछड़ी जाति के बन जाते हैं। गुरुाी हमको गवाह रखें और फैसला सुनायें। सांसद ने महिलाओं पर भी कई बातें कही। मंच पर किसी महिला नेत्री को नहीं देख कर वह उदास हुए। कहा कि क्या महिलाओं को सीएनटी एक्ट से प्रेम नहीं है। आधी आबादी को बोलने से क्यों वंचित किया गया है। फिर कहने लगे गैर आदिवासी लोग जमीन हड़पने के लिए आदिवासी लड़की से शादी करता है। हम लोग का दामाद बन जाता है। आदिवासी से उनको प्रेम है, तो अपनी लड़की भी हमें दो। आदिवासियों को भी दामाद बनाओ। इ का बात हुआ कि आदिवासी लड़का नहीं, सिर्फ लड़की से शादी करता है। हमार इलाके में एक पंजाबी है, ऊ भी आदिवासी से शादी कर जमीन हड़प लिया है। अइसा एक नहीं, कई उदाहरण है। एकाएक वह मुख्यमंत्री की ओर मुखातिब हुए। कहा कि देखिये कैसी लीला है। पहले मधु कोड़ा मुख्यमंत्री थे और गुरुाी स्टीयरिंग कमेटी संभाल रहे थे। अब गुरुाी सीएम बन गये और कोड़ा स्टीयरिंग कमेटी का चेयरमैन। दोनों ने अदला-बदली कर ली। एचइसी का स्वर्ण जयंती समारोह शुरू तीन साल कठिन श्रम की जरूरत :

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गलत बोले तो हमको फांसी दे दें बागुन