DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जरदारी और मनमोहन के बीच वार्ता आज

जरदारी और मनमोहन के बीच वार्ता आज

आतंकवादी सरगना हाफिज सईद के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच तल्ख बयानबाजी के साए में पड़ोसी देश के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से रविवार को यहां द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

जरदारी एक दिन की निजी यात्रा पर रविवार पूर्वाह्न 11 बजे यहां पहुंचेंगे। वह प्रधानमंत्री के सरकारी आवास सात रेसकोर्स में दोपहर का भोजन करेंगे। इससे पूर्व दोनों नेता विभिन्न विषयों पर अनौपचारिक विचार-विमर्श करेंगे।

पाकिस्तानी राष्ट्रपति की भारत यात्रा अमेरिका द्वारा हाफिज सईद पर 50 करोड़ रुपए का ईनाम घोषित किए जाने के कुछ ही दिन बाद हो रही है। आधिकारिक सूत्र जरदारी की यात्रा को निजी बता रहे हैं लेकिन डॉ. सिंह के साथ होने वाली वार्ता में हाफिज सईद जैसा ज्वलंत मुद्दा उठ सकता है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्दुल बासित ने इस्लामाबाद में संवाददाताओं को बताया कि जरदारी डॉ. सिंह को इस वर्ष के आखिर में पाकिस्तान आने के लिए निमंत्रित करेंगे।

पाकिस्तान का राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार भारत आ रहे जरदारी के साथ उनके पुत्र और सत्तारुढ़ पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो एवं उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल में करीब चालीस लोग होंगे। प्रतिनिधिमंडल में पाकिस्तान के गृहमंत्री रहमान मलिक, पूर्व सांसद फारुक एच नाइक भी शामिल होंगे।

खबर है कि पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार भी जरदारी के साथ आ सकती हैं। हालांकि आधिकारिक सूत्रों ने इसकी पुष्टि नहीं की है। डॉ. सिंह के साथ दोपहर का भोजन करने से पहले जरदारी उनके साथ अकेले बातचीत करेंगे और इस दौरान दानों नेताओं के बीच सभी अहम द्विपक्षीय मुद्दोंपर चर्चा होने की संभावना है। इसके बाद जरदारी अजमेर के लिए रवाना हो जाएंगें जहां वह सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर जियारत करेंगे। वहां वह लगभग आधे घंटे तक रुकेंगें।

डॉ. सिंह के साथ जरदारी के दोपहर भोज के दौरान विदेश मंत्री एस एम कृष्णा, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिव शंकर मेनन, विदेश सचिव रंजन मथाई, संसदीय मामलों के मंत्री पवन कुमार बंसल तथा मंत्रिमंडल के अन्य वरिष्ठ मंत्री मौजूद रहेंगे। बताया जा रहा है कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस महासवि राहुल गांधी को भी भोज के लिए निमंत्रण दिया गया है।

बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री द्वारा आयोजित भोज में देश के विभिन्न हिस्सों के मशहूर एवं लजीज पकवानों की लंबी फहरिश्त है। इसमें हैदराबाद की कच्ची गोश्त बिरयानी और तमिलनाडु का मिनी मसाला डोसा, कोल्ड मेलन, मिंट सूप, सब्ज बिरयानी, मक्की पालक, पनीर जलफरेजी, सिकंदरी खुश्क रान, करेली दाल गोश्त जैसे कई लजीज व्यंजन शामिल होंगे।

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री युसुफ रजा गिलानी ने अमेरिका की घोषणा पर बेरुखी अपनाते हुए कहा है कि हाफिज सईद के बारे में ठोस सबूत उसे उपलब्ध कराए जाने चाहिए तभी आगे कार्रवाई होगी। उन्होंने इसे पाकिस्तान का आतंरिक मामला भी बताया।

गिलानी के इस विवादास्पद बयान के बाद विदेश मंत्री एस एम कृष्णा ने कहा कि पाकिस्तान हाफिज सईद को आरोपों से बरी नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि समुचित जांच और न्यायिक प्रक्रिया के जरिए ही मुम्बई हमले के दोषियों से निपटा जाना चाहिए।

विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार भारत मुम्बई हमलों के दोषी व्यक्तियों को कानून के कठघरे में खड़ा कराने के लिए अमेरिका और पाकिस्तान दोनों पर जोर डालता रहा है। भारत का मानना है कि कड़ी वैधानिक प्रक्रिया का पालन करने के बाद ही अमेरिका ने हाफिज सईद पर ईनाम घोषित किया है तथा इस पर आने वाले दिनों में निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जरदारी और मनमोहन के बीच वार्ता आज