DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सू ची की जीत लेकर आई एक नई सुबह की उम्मीद

सू ची की जीत लेकर आई एक नई सुबह की उम्मीद

म्यांमार के निर्वाचन अधिकारियों ने सोमवार को उप चुनाव में आंग सान सू ची की अगुवाई वाली विपक्षी पार्टी के शानदार ऐतिहासिक जीत हासिल करने का एलान कर दिया है। इसके साथ ही लोकतंत्र का प्रतीक बनी महान नेता सू ची ने उम्मीद जताई है कि यह जीत लंबे समय से दमन का शिकार देश में एक नए युग की शुरुआत होगी।

चुनाव परिणामों की आधिकारिक घोषणा से पहले सू ची ने हजारों समर्थकों से बातचीत की जो उनकी पार्टी के मुख्यालय के बाहर एकत्र हुए थे। इससे एक दिन पहले ही पार्टी ने घोषणा कर दी थी कि वह कल हुए मतदान में संसदीय सीट जीत गई हैं।

उनके नाम का बार बार उद्घोष कर रहे अपने समर्थकों की भारी भीड़ से सू ची ने कहा कि यह जीत लोगों की जीत है। उनके प्रशंसक विजय प्रतीक के तौर पर वी का चिन्ह बना रहे थे। बाद में निर्वाचन आयोग ने ऐलान कर दिया कि सू ची की नेशनल लीग फोर डेमोक्रेसी पार्टी ने शानदार जीत हासिल की है जिससे सैन्य प्रभुत्व वाली संसद में उसे विपक्ष की ओर स्थान हासिल हो सकेगा।

सरकारी रेडियो और टेलीविजन ने आयोग के नतीजे घोषित करते हुए बताया कि एनएलडी को 45 में से 40 सीटें हासिल हुई हैं। दूरवर्ती पांच सीटों के परिणाम अभी मिलने बाकी हैं।
 
एनएलडी के अपने अनुमान के अनुसार उसे 43 सीटें मिली हैं और उसे अभी दूरवर्ती शान राज्य में एक निर्वासन क्षेत्र के परिणाम का अभी इंतजार है। पार्टी अपने एक उम्मीदवार के अयोग्य घोषित होने के चलते एक सीट पर चुनाव लड़ने में विफल रही थी।

इस चुनाव से पहली बार पूर्व राजनीतिक कैदी के सार्वजनिक पद पर आसीन होने का रास्ता सुलभ होगा और वह म्यामां की संसद में एक छोटे गुट का नेतृत्व कर सकेंगी। संसद में अब भी सेना का प्रभुत्व है। सू ची ने कहा कि हमें आशा है कि चुनावों में भाग लेने वाले सभी पक्ष देश में स्वाभाविक लोकतांत्रिक माहौल बनाने की दिशा में हमारे साथ सहयोग करेंगे।

पार्टी कार्यालय के नतीजों के अनुसार, सरकारी मीडिया ने कहा कि एनएलडी ने 40 सीटों पर जीत दर्ज की। सू ची की पार्टी ने 45 में से 44 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए थे। अन्य पांच सीटों के नतीजे अभी आधिकारिक रूप से घोषित नहीं हुए हैं।

पूर्व सैन्य शासन ने लंबे समय से लोकतंत्र के समर्थन में आंदोलन कर रहीं सू ची को दो दशक से भी अधिक समय तक नजरबंद रखा था। उन्हें अंतत: 2010 में रिहा किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सू ची की जीत लेकर आई नई सुबह की उम्मीद