DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कामकाज सुधारं, वरना समर्थन पर होगा विचार

ारवर्ड ब्लॉक झारखंड राज्य कमेटी ने सरकार के कामकाज पर नाराजगी जाहिर करते हुए आंखें तररनी शुरू कर दी है। महासचिव जनार्दन पांडेय ने सीएम शिबू सोरन को एक पत्र लिखकर सरकार के कामकाज पर सवाल खड़ा किया है। फब्ला ने कहा है कि यह सरकार व्यक्ितगत हितों को पोषण करने तथा व्यक्ितगत निर्णय के आधार पर काम कर रही है। ढाई महीने के कार्यकाल में ट्रांसफर-पोस्टिंग के सिवा सरकार के पास काम गिनाने को कुछ भी नहीं है। महासचिव ने कहा है कि पार्टी ने 17 सूत्री मांगों के आधार पर सरकार को समर्थन दिया गया था जिसमें सरकार के निष्पक्ष तरीके से चलाने के लिए संचालन समिति के गठन की बात थी, लेकिन इसका गठन नहीं किया गया। पारा शिक्षकों की हड़ताल के मुद्दे पर सरकार के रुख पर फाब्ला ने नाराजगी जतायी है। कहा है कि शैक्षणिक व्यवस्था चरमराने के बाद भी सम्मानजनक निदान नहीं कर सरकार आंदोलकारी शिक्षकों को धमका रही है। अराजकता का आलम यह है कि विधायक मंत्री के आवास पर कब्जा जमाये बैठे हैं और महिला मंत्री आवास के लिए ठोकरं खा रही हैं। इससे सरकारी कामकाज बाधित हो रहा है और सरकार के मुखिया को इसकी चिंता नहीं है। महासचिव ने कहा है कि इन परिस्थितियों में पार्टी ( फाब्ला) कब तक चुप रहे। इन बिंदुओं पर सरकार तत्काल पहल नहीं करती है, तो पार्टी सरकार से समर्थन वापस लेने को बाध्य हो जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कामकाज सुधारं, वरना समर्थन पर होगा विचार