DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नामी प्राइवेट डॉक्टर भी देंगे मुफ्त सलाह

नामी प्राइवेट डाक्टरों से भी अब सूबे के लोग मुफ्त सलाह लेंगे। उनकी महंगी फीस का वहन सरकार करगी। स्वास्थ्य मंत्री नन्दकिशोर यादव शनिवार को अनिशाबाद में एक निजी नर्सिग होम से इस योजना की शुरूआत करंगे। पहले चरण में सूबे के दो दर्जन बड़े शहरों को इसके लिए चुना गया है। इस योजना में अब तक पटना, मुजफ्फरपुर, गया, भागलपुर, बिहारशरीफ समेत अन्य शहरों के 100 से ऊपर नामी-गिरामी डाक्टरों का निबंधन किया गया है।ड्ढr ड्ढr इसके एवज में हरेक डाक्टर को सरकार प्रति माह 42 हजार रुपया देगी। इन्हें ‘अर्बन हेल्थ सेन्टर’ का नाम दिया गया है। इन डाक्टरों को हर रोज आठ घंटे मुफ्त ओपीडी की सेवा देनी होगी। टीकाकरण के साथ ही परिवार नियोजन और संस्थागत प्रसव की सुविधा भी बहाल करनी होगी। जरूरत पड़ने पर ये बड़े अस्पतालों में मरीजों को रफर करंगे। इससे मरीजों को बेहतर चिकित्सा तो प्राप्त होगी ही, मेडिकल कॉलेजों एवं सरकारी अस्पतालों पर से मरीजों का लोड भी कम होगा। भागलपुर और नालंदा में पहले ही इसकी शुरुआत की जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक इस योजना के सफल हो जाने के बाद दृूसर चरण में दूसर राज्यों में नाम कमाने वाले बिहारी डाक्टरों को दो वर्ष के कांट्रक्ट पर बिहार बुलाने की योजना पर काम प्रारंभ किया जाएगा। इसके लिए हरेक डाक्टर को 55 हजार नकद और रहने की सुविधा देने का निर्णय किया गया है। दरअसल शहरी गरीबों को आवश्यक सभी स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने के लिए हर स्तर पर प्रयास किया जा रहा है। स्लमों में रहने वाले असहायों को आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं देने में शहरी सरकारी असपतालों की असमर्थता को देखते हुए ही सरकार ने इन अर्बन हेल्थ सेन्टरों की व्यवस्था की है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नामी प्राइवेट डॉक्टर भी देंगे मुफ्त सलाह