DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंकड़ों में विसंगति से नीचे रही गरीबी रेखा: मोंटेक

आंकड़ों में विसंगति से नीचे रही गरीबी रेखा: मोंटेक

गरीबी के नए आंकड़ों को लेकर आलोचना का सामना कर रहे योजना आयोग ने मंगलवार को स्वीकार किया कि एनएसएसओ के आंकड़ों और राष्ट्रीय लेखा में गंभीर विसंगति के चलते शहरों में गरीबी रेखा के तहत प्रति व्यक्ति दैनिक खपत 28.65 रुपये सामने आई।

एनएसएसओ के आंकड़ों की गुणवत्ता के बारे में पूछे गए सवालों का जवाब देते हुए योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह आहलूवालिया ने कहा कि उपभोक्ता सर्वेक्षण और राष्ट्रीय लेखा के बीच विसंगति एक गंभीर सांख्यिकी समस्या है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आंकड़ों में विसंगति से नीचे रही गरीबी रेखा: मोंटेक