अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोनपुर मेले में खूब बिक रहीं तलवार

अवैध पिस्तौल रखोगे पकड़े जाओगे लेकिन तलवार रखने में पुलिस का कोई लफड़ा नहीं है। तलवार रखने वाले को आर्म्स एक्ट में पकड़े जाने का कोई खतरा नहीं है और न ही लाइसेंस लेने की जरुरत। शायद इसी सोच के तहत इस बार विश्व प्रसिद्ध हरिहरक्षेत्र सोनपुर मेले में तलवारों की अप्रत्याशित बिक्री हो रही है। पिछले तीन दिनों में ही करीब छह हाार तलवारं बिक चुकी हैं। सबसे अच्छी तलवार एक हाार रुपए में आ रही है। सैकड़ों की संख्या में बिक रही तलवारों से दुकानदार तो गदगद हैं ही बगल में धार पर सान चढ़ाने वाले भी काफी खुश हैं।ड्ढr ड्ढr अधिक मांग होने के कारण जो तलवार पहले 150 में बिकती थी, वही 250 में बिक रही है। हाार रुपए में भी बिक रही है तलवार पर कलात्मक काम किया हुआ है। मेले में इस बार तलवार की छह दुकानें हैं जिनमें अकेले पांच सीवान के दुकानदारों की हैं। दुकानदार बटेश्वर कुमार तिवारी तथा ललन तिवारी ने हिन्दुस्तान को बताया कि इस बार खूब बिक्री हो रही है। इन दुकानदारों ने पंजाब के अमृतसर से तलवारं मंगाई हैं। ज्यादातर ग्राहक दूसर जिलों एवं उत्तर प्रदेश के हैं।ड्ढr ड्ढr मेले में हाथियों का रािस्ट्रेशन शुरूड्ढr मुजफ्फरपुर (का.सं.)। विश्व प्रसिद्ध सोनपुर मेला में पहुंचने वाले गजराज के रािस्ट्रेशन का काम वन विभाग ने शुरू कर दिया गया है। मेले में दो और हाथी के पहुंचने से इनकी संख्या 6तक पहुंच गयी। हालांकि गत वर्ष से एक दर्जन कम हाथी पहुंच सके। इधर आरसीसीएफ मिथिलेश कुमार व सीएफ सीपी खंडूाा ने हाथी बाजार का जायजा लिया। मुजफ्फरपुर अंचल के वन संरक्षक श्री खंडूाा ने स्वयं हाथियों के कागजातों की संख्या की जांच की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सोनपुर मेले में खूब बिक रहीं तलवार