DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीलंका को हराकर बांग्लादेश फाइनल में, भारत बाहर

श्रीलंका को हराकर बांग्लादेश फाइनल में, भारत बाहर

तमीम इकबाल और साकिब अल हसन ने तूफानी अर्धशतकों की मदद से बांग्लादेश ने विषम परिस्थितियों से उबरकर वर्षा से प्रभावित अंतिम लीग मैच में डकवर्थ-लुईस पद्धति के तहत श्रीलंका को पांच विकेट से हराकर पहली बार एशिया कप टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश किया।

तमीम ने 57 गेंद में नौ चौकों की मदद से 59 जबकि साकिब ने 46 गेंद में सात चौकों की मदद से 56 रन की पारी खेली जिससे मेजबान बांग्लादेश ने 17 गेंद शेष रहते पांच विकेट पर 212 रन बनाकर मैच जीत लिया। नासिर हुसैन (नाबाद 36) और महमूदुल्लाह (नाबाद 32) ने छठे विकेट के लिए 77 रन की अटूट साझेदारी करके टीम की जीत सुनिश्चित की।
इससे पहले बांग्लादेश ने नजमुल हुसैन (32 रन तीन विकेट) की धारदार गेंदबाजी से श्रीलंका को 49.5 ओवर में 232 रन पर रोक दिया था लेकिन पारी खत्म होने के बाद बारिश आ गई और लंबे विलंब के बाद जब खेल दोबारा शुरू हुआ तो बांग्लादेश को 40 ओवर में 212 रन का लक्ष्य मिला।

बांग्लादेश के भारत के बराबर तीन मैचों में दो जीत से आठ अंक रहे लेकिन मेजबान देश ने लीग चरण में भारत को हराने के कारण गुरुवार को होने वाले फाइनल में पाकिस्तान से भिड़ने का हक पाया।

वर्ष 1984 में शुरू हुए एशिया कप में यह पहला मौका है जब भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका के अलावा किसी अन्य टीम ने फाइनल में प्रवेश किया है। श्रीलंका को टूर्नामेंट में अपने तीनों मैच गंवाने पड़े।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे बांग्लादेश को नुवान कुलशेखरा ने शुरुआती झटके दिए। कुलशेखरा ने सलामी बल्लेबाज नजीमुद्दीन (6) और कप्तान मुशफिकुर रहीम (1) को बोल्ड किया जबकि सुरंगा लकमल ने जहुरुल इस्लाम (2) को पवेलियन भेजकर आठवें ओवर में ही बांग्लादेश का स्कोर तीन विकेट पर 40 रन कर दिया।

तमीम और साकिब ने इसके बाद 12.1 ओवर में तेजी से 76 रन जोड़कर बांग्लादेश को संभाला। दोनों ने खुलकर बल्लेबाजी की और कुछ आकर्षक शॉट लगाए।

तमीम ने शुरू से ही आक्रामक रवैया अपनाया और कुलशेखरा के पारी के छठे ओवर में तीन चौके लगाए। साकिब ने भी लकमल के ओवर में तीन चौके जड़े। तमीम ने फरवेज महारूफ की गेंद पर चौके के साथ सिर्फ 46 गेंद में टूर्नामेंट का अपना लगातार तीसरा अर्धशतक पूरा किया और 17वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया। वह हालांकि अगले ओवर में भाग्यशाली रहे जब सचित्र सेनानायके ने अपनी ही गेंद पर उनका कैच छोड़ दिया।

तमीम हालांकि जीवदान का फायदा नहीं उठा पाए और सेनानायके के अगले ओवर में प्वाइंट पर लाहिरू थिरिमाने को कैच दे बैठे। उन्होंने 57 गेंद की अपनी पारी में नौ चौके जड़े। साकिब ने इसके बाद सेनानायके पर तीन चौके जड़े और इस दौरान 43 गेंद में अर्धशतक पूरा किया लेकिन वह इसी स्पिनर की सीधी गेंद को चूककर पगबाधा आउट हुए। उन्होंने 46 गेंद की अपनी पारी में सात चौके मारे। बांग्लादेश को इस समय जीत के लिए 16.4 ओवर में 77 रन की जरूरत थी और हुसैन तथा महमूदुल्लाह ने इस लक्ष्य को आसानी से हासिल कर लिया।

इससे पहले श्रीलंका की शुरुआत खराब रही और उसने 10 ओवर में 32 रन पर ही तीन विकेट गंवा दिए जिसके बाद चामरा कपुगेदारा (62), लाहिरू थिरिमाने (48) और उपुल थरंगा (48) ने मध्यक्रम में उपयोगी पारियां खेल टीम को संभाला।

टीम में वापसी कर रहे नजमुल हुसैन के अलावा बाएं हाथ के स्पिनरों अब्दुर रज्जाक (44 रन पर दो विकेट) और साकिब (56 रन पर दो विकेट) ने उम्दा गेंदबाजी की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:श्रीलंका को हराकर बांग्लादेश फाइनल में, भारत बाहर