अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पारा शिक्षकों का रांची बंद बेअसर

नौकरी पक्की करने और सेवा नियमावली में संशोधन की मांग को लेकर पारा शिक्षकों द्वारा शुक्रवार को आहूत रांची बंद बेअसर रहा। बाजार, सरकारी दफ्तर, बैंक, सार्वजनिक क्षेत्र के प्रतिष्ठान खुले रहे। गाड़ियां सामान्य दिनों की तरह चलीं। बंद के समर्थन में जुलूस निकाल रहे सैकड़ों पारा शिक्षकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। देर शाम इन्हें रिहा कर दिया गया। बंद कराने के लिए पारा शिक्षक सैकड़ों की संख्या में महावीर चौक से निकले। रातू रोड चौराहा के समीप सुखदेवनगर थाना की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। इनमें प्रदेश अध्यक्ष विनोद तिवारी, प्रवक्ता ऋषिकेश पाठक समेत अन्य लोग शामिल थे। अध्यक्ष ने कहा कि राज्य के विभिन्न जिलों से रांची आ रहे पारा शिक्षकों को पुलिस ने रोक दिया। जगह-ागह गाड़ियां जब्त कर ली गयीं। पलामू से चली गाड़ियों को बीच रास्ते में ही पुलिस ने रोक दिया। ट्रेन में भी सघन अभियान चलाया जा रहा था। कहा कि सरकार उनके आंदोलन को कुचलने की साजिश कर रही है।ड्ढr स्थापना दिवस समारोह में काला झंडा दिखायेंगेड्ढr रांची। स्थायीकरण की जिद पर अड़े झारखंड राज्य शिक्षा मित्र सहयोगी पारा शिक्षक संघ एवं झारखंड पारा शिक्षक संघ ने 15 नवंबर को झारखंड स्थापना दिवस समारोह में काला झंडा दिखाने का निर्णय लिया है। अध्यक्ष विनोद तिवारी एवं दूसर गुट के महासचिव विनोद बिहारी महतो ने कहा कि अगर सीएम पारा शिक्षकों को स्थायीकरण की घोषणा करते हैं, तब पारा शिक्षक काला झंडा नहीं दिखायेंगे। एसा नहीं होता है कि हर हाल में काला झंडा दिखाया जायेगा। पारा शिक्षक समूह में बंटकर मोरहबादी मैदान के चारों ओर रहेंगे। दावा किया कि विरोध प्रदर्शन के लिए 50 हाार से ज्यादा शिक्षक मोरहाबादी मैदान में जुटेंगे। सीएम से वार्ता को लेकर अब तक पारा शिक्षकों से संपर्क नहीं साधा गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पारा शिक्षकों का रांची बंद बेअसर