DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

काम नहीं आएंगी दबाव बढ़ाने की चालें: प्रणव

काम नहीं आएंगी दबाव बढ़ाने की चालें: प्रणव

बजट प्रस्तावों के खिलाफ हड़ताल पर गये सर्राफा व्यापारियों को सीधे शब्दों में सावधान करते हुये वित्तमंत्री प्रणव मुखर्जी ने रविवार को कहा कि दबाव बढ़ाने की उनकी नीति काम नहीं आएंगी।

उल्लेखनीय है कि बजट में सोने पर शुल्क लगाने के प्रस्ताव के खिलाफ सर्राफा व्यापारी तीन दिन की हड़ताल पर चले गए। मुखर्जी ने बजट में स्टेंडर्ड सोने की छड़ों पर मूल सीमा शुल्क को दोगुना कर चार प्रतिशत तथा गैर स्टेंडर्ड सोने पर दस प्रतिशत कर दिया। इसके अलावा बिना ब्रांड वाले आभूषणों पर एक प्रतिशत उत्पाद शुल्क लगाने का प्रस्ताव भी किया है।

एक साक्षात्कार में शुल्क लगाने के खिलाफ सर्राफा व्यापारियों की तीन दिन की हड़ताल के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैंने यह जानबूझकर किया। उन्होंने कहा कि लगातार दो साल में 90 अरब डालर का बहुमूल्य विदेशी मुद्रा भंडार सोने के आयात पर खर्च किया गया और तेल के बाद सबसे अधिक आयात सोने का हुआ है।

सर्राफा डीलरों की हड़ताल के बारे में उन्होंने कहा कि अगर उन्हें लगता है कि ऐसा कर वे दबाव बनाएंगे तो इससे कुछ होने वाला नहीं है। मुखर्जी ने कहा कि भारत में लोग सोने को लेकर दीवाने हैं क्योंकि यह सोचकर की आने वाले समय में इसके दाम बढ़ेंगे वह जमीन जायदाद या सोने में ही पैसा लगाते हैं।

उन्होंने कहा कि यह भारतीय संस्कृति का हिस्सा है और दक्षिण में तो कुछ राजनीतिक दलों ने दुल्हनों को  मंगलसूत्र तक देने का फैसला किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:काम नहीं आएंगी दबाव बढ़ाने की चालें: प्रणव