DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सलमान रश्दी ने कांग्रेस पर साधा निशाना

सलमान रश्दी ने कांग्रेस पर साधा निशाना

जयपुर में साहित्य उत्सव से दूर रहने को बाध्य किए जाने के दो माह बाद विवादास्पद लेखक सलमान रश्दी ने शनिवार को कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि व्यर्थ चुनावी गुणाभाग के चलते उनकी मौजूदगी रोकी गई।

अपनी पुस्तक द सैटेनिक वर्सेज को लेकर कट्टरपंथी मुस्लिम संगठनों की आंखों में खटकने वाले जाने माने लेखक ने कहा कि जयपुर में उनकी मौजूदगी पर रोक लगाने से कांग्रेस पार्टी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में औंधे मुंह गिरी।

ताज पैलेस में इंडिया टुडे कानक्लेव में भाग लेते हुए उन्होंने कहा कि भारत आज के नेताओं के बजाय श्रेष्ठ नेताओं की अगुवाई का हकदार है। जनवरी के जयपुर साहित्य उत्सव के विवाद की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि वहां जो कुछ हुआ वह देवबंदी हठ नहीं था। यह मामूली व्यर्थ चुनावी गुणाभाग था। राहुल गांधी पर यह काम नहीं कर पाया।

रश्दी ने कहा कि इससे उत्तर प्रदेश कांग्रेस की हार हुई। उन्होंने कहा कि भारतीय मतदाता इन नेताओं से कहीं ज्यादा स्मार्ट हैं। लोगों को निकाला जा सकता है जैसा कि जयपुर साहित्य उत्सव है। उन्होंने कहा कि 95 फीसदी मुसलमानों को हिंसा में कोई दिलचस्पी नहीं है और हिंदुओं के लिए भी ऐसा ही होगा।

स्वतंत्रता बनाम: मैं जो हूं सो हूं और मैं ऐसा ही हूं विषय पर आधारित सत्र में उन्होंने कहा कि भारत में नाराजगी की संस्कृति बढ़ती जा रही है। दिवंगत एमएफ हुसैन और अन्य कलाकारों एवं लेखकों का कट्टरपंथियों की ओर से विरोध का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि हर रोज ऐसा जान पड़ता है कि मुसलमानों और हिंदुओं के संगठनों की ओर से धौंस जमाया जाता है। आवाज दबा दी जाती हैं। हिंसा का डरावना प्रभाव स्पष्ट है और इस देश में यह बढ़ता ही जा रहा है।

ऐसी बातों के प्रति जनता की बेरुखी पर उन्होंने कहा कि लोग सो रहे हैं। आपको जागने की जरूरत है। स्वतंत्रता कोई चाय पार्टी नहीं हैं, यह एक लड़ाई है। यह पूर्ण नहीं है। यह ऐसी चीज है जो कोई छीनने को तैयार है। यदि आपने रक्षा नहीं की, तो आप उसे खो बैंठेंगे।

अपनी पुस्तक द सैटेनिक वर्सेज के विरोध पर रश्दी ने कहा कि लोगों को मुझ पर हमला करने का अधिकार किसने दिया। रश्दी ने कहा कि उन्हें आश्चर्य है कि इस पुस्तक के कुछ उद्धरण पढ़ने वाले लेखकों का बचाव नहीं किया जा रहा है और उन पर अभियोजन का खतरा मंडरा रहा है।

उन्होंने उनकी मौजूदगी की वजह से इस सम्मेलन में नहीं आने पर पाकिस्तान के क्रिक्रेटर से नेता बने इमरान खान के अलावा जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की आलोचना की।

जनवरी में रश्दी जयपुर के साहित्य उत्सव में भाग लेने वाले थे लेकिन उन्हें मुसलमान संगठनों की विरोध प्रदर्शन की धमकी के कारण अपनी यह यात्रा रद्द करनी पड़ी थी। बाद में आयोजकों को वीडियो लिंक के माध्यम से होने वाला उनका संबोधन भी हिंसा के डर से रद्द करना पड़ा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सलमान रश्दी ने कांग्रेस पर साधा निशाना