DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा का मुकाबला सिर्फ कांग्रेस से है

पिछला विधानसभा चुनाव बीएसपी यानी बिजली, सड़क और पानी को मुद्दा बनाकर मध्यप्रदेश में भगवा फहराने वाली भाजपा के लिए इस बार एक दूसरी बीएसपी यानी बहुान समाज पार्टी बड़ी समस्या बनी हुइ्र्र है। कल तक जो बसपा कांग्रेस के वोट बैंक को नुकसान पहुंचाती दिख रही थी, आज वो उत्तरप्रदेश में बने जातीय समीकरणों के बाद मध्यप्रदेश में चुनावी गणितों को बिगाड़ रही है। इससे मध्य- प्रदेश में कई दशक से चली आ रही दो दलीय व्यवस्था टूटती नजर आ रही है। फिर इस मैदान में साध्वी उमा भारती अपने चिर-परिचित तेवरों के साथ अपने नए दल को क्षेत्रीय पार्टी का आकार देने में जुटी हुई हैं। चुनाव में भ्रष्टाचार एक बड़े मुद्दे के रूप में सामने आया है। हालांकि इस सबके बावजूद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चुनाव में भाजपा को बहुमत मिलने को लेकर आशान्वित नजर आ रहे हैं। चुनाव में हिन्दुत्व भाजपा के पक्ष में है या विकास, भ्रष्टाचार का मुद्दा कितना नुकसान कर रहा है? इन सभी मुद्दों पर मुख्यमंत्री चौहान से रूबरू हुए प्रमुख संवाददाता दिनेश गुप्ता भाजपा बिजली, सड़क-पानी को मुद्दा बनाकर सत्ता में आई्र थी, यह समस्या पांच साल बाद भी जनता के सामने है?ड्ढr भाजपा ने जो कहा था, उसे काफी हद तक पूरा कर दिया है। दिग्विजय सिंह के शासनकाल में राज्य की जिन सड़कों पर लक्ा़री चार पहिया वाहन तीस किलोमीटर की रफ्तार से भी नहीं चल पाते थे, आज उन सड़कों पर वाहनों की गति सौ किलोमीटर प्रतिघंटा है। हमने चालीस हाार किलोमीटर लंबी सड़कें बनाइ्र्र हैं। बिजली उत्पादन में 3150 मेगावाट से अधिक का क्षाफा हुआ। पानी की समस्या को हल करने के लिए परंपरागत स्त्रोतों को जीवित किया गया। जनता हमें परख चुकी है। इस कारण ही कांग्रेस के भाई घबराए हुए हैं। भाजपा ने इन मुद्दों को अगर हल कर भी लिया है तो साध्वी प्रज्ञा और हिन्दुत्व का मुद्दा सामने आ रहा है?ड्ढr हम सिर्फ काम के आधार पर जनता से वोट मांग रहे हैं। हिन्दुत्व और साध्वी प्रज्ञा का मामला राज्य में चुनाव का मुद्दा कतई नहीं है। प्रज्ञा मामले में पार्टी अपना रुख स्पष्ट कर चुकी है। इस बार में मुझे कुछ अलग से कहने की जरूरत नहीं है। सिमी की तरह बजरंग दल पर प्रतिबंध की बात चल रही है?ड्ढr बजरंग दल जसे राष्ट्रवादी संगठनों की तुलना सिमी से करना ही गलत है। बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाने का कोई आधार भी नहीं है। भ्रष्टाचार के मुद्दे से निपटने के लिए हिन्दुत्व मुद्दा उठाया जा रहा है?ड्ढr कांग्रेस भ्रष्टाचार के आरोप लगा रही है,ानता कांग्रेस के इस आरोप को स्वीकार नहीं कर रही है। इस चुनाव में भ्रष्टाचार कोई मुद्दा है ही नहीं। मुद्दा सिर्फ विकास का है। विपक्ष में बैठकर आरोप लगाना एक बात है,आरोप सिद्ध होना दूसरी बात है। कांग्रेस जो आरोप लगा रही है,वह सिद्ध नहीं कर पाई है। कांग्रेस तो शिवराज सिंह चौहान से डरी हुई है। उसे कोई मुद्दा समझ में नहीं आ रहा। कई दल चुनाव मैदान में हैं, क्या एक दल की सरकार बन पाएगी?ड्ढr पिछले चुनाव में भी बहुान समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी मैदान में थे, जनता ने भाजपा को स्पष्ट बहुमत दिया। इस बार भी भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में रहेगी। इस चुनाव में भी भाजपा का मुकाबला सिर्फ कांग्रेस से ही। अन्य कोई राजनीतिक दल मुकाबले में नजर नहीं आता। क्या कोई सत्ता विरोधी लहर भी है?ड्ढr आप झाबुआ से लेकर मुरैना तक कहीं भी चले जाइए, भाजपा के खिलाफ कहीं भी माहौल नहीं है। भाजपा की चुनावी सभाओं में जिस तरह से भीड़ उमड़ रही है, वह साफ इशारा करती है कि पार्टी को फिर से बहुमत मिलने जा रहा है। साध्वी उमा भारती तो पार्टी के वोटों का नुकसान कर रहीं हैं?ड्ढr मैंने कहा ना लड़ाई सिर्फ कांग्रेस से है। पार्टी को किसी अन्य दल और व्यक्ति से कोई नुकसान नहीं हो रहा। बहुान समाज पार्टी भी भाजपा के वोटों का ही नुकसान कर रही है?ड्ढr मध्यप्रदेश के लोग जाति एवं धर्म से हटकर वोट देते हैं। यहां जातिवाद अन्य राज्यों की तरह हावी नहीं है। यहां मतदाता विकास चाहता है,ाो भाजपा ने किया है। राज्य के लोग आज भी यह नहीं भूले हैं कि दस साल सत्ता में रही कांग्रेस ने कैसे बंटाधार किया था। कर्मचारियों को डीए समय पर नहीं मिल पाता था। हमेशा ओवरड्राफ्ट की स्थिति बनी रहती थी। पांच साल के भाजपा शासन में एक भी दिन ओवरड्राफ्ट की नौबत नहंी आई । भाजपा सरकार ने समाज के हर वर्ग का ख्याल रखा। आपको लगता है मौजूद राजनीतिक समीकरणों में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिलेगा?ड्ढr मुझे पूरा भरोसा है कि हम अपने दम पर सरकार बनाने जा रहे हैं। परिणाम पिछले चुनाव जसे ही होंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाजपा का मुकाबला सिर्फ कांग्रेस से है