DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयकर छूट की सीमा बढ़कर हुई 2 लाख

आयकर छूट की सीमा बढ़कर हुई 2 लाख

करदाताओं को कुछ राहत देते हुए वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को व्यक्तिगत आयकरदाताओं के लिए कर छूट की सीमा को 1.80 लाख रुपये से बढ़ाकर दो लाख रुपये करने का प्रस्ताव किया है।
    
लोकसभा में वित्त वर्ष 2012-13 का बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि वह पांच लाख से 10 लाख रुपये तक की वार्षिक आय को 20 प्रतिशत कर स्लैब में लाने का प्रस्ताव करते हैं। अभी पांच लाख से 8 लाख रुपये की आय पर 20 प्रतिशत कर लगता है।
    
बजट में कंपनी आयकर की दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रत्यक्ष कर पर प्रस्तावों से सरकार को 4,500 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा। बजट में बैंक जमा पर 10,000 रुपये की ब्याज की आमदनी को भी कर मुक्तता के तहत लाने का प्रस्ताव किया गया है।
    
अब सामान्य करदाताओं को दो से पांच लाख रुपये की आमदनी पर 10 प्रतिशत आयकर देना होगा। 5 से 10 लाख रुपये की आमदनी पर कर की दर 20 प्रतिशत और 10 लाख रुपये से अधिक की सालाना आय पर 30 प्रतिशत आयकर देना होगा।
    
वित्त मंत्री ने कहा कि कर मुक्तता की सीमा बढ़ाना प्रत्यक्ष कर संहिता (डीटीसी) को लागू करने की दिशा में एक कदम है। वित्त पर संसद की स्थायी समिति ने आयकर छूट की सीमा को 3 लाख रुपये करने का सुझाव दिया था।
    
60 से 80 साल के वरिष्ठ नागरिकों की 2.50 लाख रुपये की आमदनी पर कोई कर नहीं लगेगा। वरिष्ठ नागरिकों को 2.5 से 5 लाख रुपये की आय पर 10 प्रतिशत, 5 से 10 लाख रुपये पर 20 प्रतिशत और 10 लाख रुपये से अधिक की आमदनी पर 30 प्रतिशत आयकर देना होगा।
     
80 साल से उपर के वरिष्ठ नागरिकों को 5 लाख रुपये तक की आय पर कोई कर नहीं देना होगा। उनको 5 से 10 लाख रुपये की आय पर 20 प्रतिशत और 10 लाख रुपये से अधिक की आय पर 30 फीसदी की दर से आयकर देना होगा।
     
वित्त मंत्री ने कहा कि डीटीसी को जल्द से जल्द लागू करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें 9 मार्च, 2012 को संसद की स्थायी समिति की रिपोर्ट मिल गई है। हम तेजी से रिपोर्ट की समीक्षा करेंगे और डीटीसी को जल्द लागू करने का प्रयास करेंगे।
     
डीटीसी विधेयक करीब 50 साल पुराने आयकर अधिनियम, 1961 का स्थान लेगा। वित्त मंत्री ने कहा कि बैंक बचत खातांे की कटौती से छोटे करदाताओं को फायदा होगा। 
     
उन्होंने कहा कि इससे 5 लाख रुपये तक की आमदनी वाले छोटे करदाताओं को फायदा होगा। साथ ही बचत खातों पर 10,000 रुपये तक के ब्याज पर कोई कर नहीं देना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आयकर छूट की सीमा बढ़कर हुई 2 लाख