DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

थकी रेल को टॉनिक के लिए किराए में बढ़ोतरी

थकी रेल को टॉनिक के लिए किराए में बढ़ोतरी

पर्याप्त बजटीय समर्थन नहीं मिलने की दुहाई देते हुए बोझ से दबी व थकी मांदी रेलवे को पटरी पर लाने के वादे के साथ रेल मंत्री ने किराए में प्रति किमी दो पैसे से 30 पैसे तक वृद्धि का ऐलान किया।

लोकसभा में बतौर रेल मंत्री पहली बार बजट पेश कर रहे दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि रेलवे बहुत कठिनाई के दौर से गुजर रही है और उसके कंधे और कमर झुक गयी है। उन्होंने कहा कि रेलवे की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए यात्री किराये में की जा रही वृद्धि मामूली है और उपनगरीय ट्रेनों के लिए प्रति किलोमीटर दो पैसे की बढो़तरी की जा रही है।

त्रिवेदी ने इसके अलावा पैसेंजर ट्रेनों में प्रति किलोमीटर तीन पैसे, स्लीपर श्रेणी में प्रति किलोमीटर पांच पैसे, एसी-3 और एसी-चेयरकार में प्रति किलोमीटर दस पैसे, एसी-2 में 15 पैसे और एसी-1 में प्रति किलोमीटर 30 पैसे की बढो़तरी का ऐलान किया। बजट में प्लेटफार्म टिकट तीन रुपये से बढा़कर पांच रुपये कर दिया गया है।

पिछले नौ साल में रेल यात्री किराये में पहली बार बढो़तरी की गयी है। उन्होंने 75 नयी एक्सप्रेस ट्रेनों, 21 नयी सवारी गाड़ियों, मंबई उपनगरीय रेल नेटवर्क पर 75 नयी सेवाओं तथा कोलकाता और चेन्नई उपनगरीय नेटवर्क पर क्रमश: 50 और 15 नयी सेवाओं को शुरू करने का ऐलान किया।

रेल मंत्रालय को पर्याप्त बजटीय समर्थन नहीं मिल पाने के कारण करीब पांच सौ परियोजनाएं घोषित होने के बावजूद काफी धीमा चल रही है और धन की कमी के कारण रेल थक गई है। इस बोझ को कम करने के लिए रेल मंत्री ने विभिन्न श्रेणियों में प्रति किलोमीटर की यात्रा पर दो पैसे से लेकर 30 पैसे की वृद्धि करने का प्रस्ताव किया।

रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने बुधवार को लोकसभा में पेश अपने बजट भाषण में रेलवे को धन की किल्लत की बार-बार दुहाई दी और सरकार से पर्याप्त अनुदानों की मांग की। उन्होंने कहा कि अकेले प्रधानमंत्री रेल विकास परियोजना के लिए पांच लाख करोड़ रुपए के अतिरिक्त अनुदान की जरूरत है जबकि 487 अन्य परियोजनाओं के लिए एक लाख करोड़ रुपए और चाहिए।
 
उन्होंने कहा कि धन की कमी के अभाव में रेल के कंधे लचक गए हैं और बोझ से दबी रेल बुरी तरह थक गई है। उन्होंने कहा कि अनेक परियोजनाएं घोषित होती जा रही हैं और लंबित परियोजनाओं का एक बडा़ टोकरा बन गया है।
 
रेल मंत्री ने सुरक्षा पर भी अपने भाषण में विशेष जोर दिया और इसके लिए अलग से रेल सुरक्षा प्राधिकरण के गठन का प्रस्ताव किया। उन्होंने सीमांत क्षेत्रों में पडो़सी देश द्वारा किए गए अत्याधुनिक रेल नेटवर्क का विकास करने के लिए भारतीय रेल ढांचा मजबूत करने को सर्वोच्च प्राथमिकता देने का ऐलान किया।
 
रेल मंत्री ने अमृतसर-पटना-नांदेड के बीच गुरु परिक्रमा विशेष ट्रेन शुरू करने, 75 नई एक्सप्रेस ट्रेने चलाने, रेल बोर्ड का गठन करने और अगले वित्त वर्ष में एक लाख से अधिक कर्मचारियों की भर्ती करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि रेलवे में खिलाड़ियों को बढा़वा देने के लिए खेल रत्न पुरस्कार दिए जाने का प्रस्ताव है।
 
उन्होंने ढाई हजार डिब्बों में बायो टायलेट लगाने की भी घोषणा की। उन्होंने बताया कि डीजल रेल इंजन बनाने का एक कारखाना मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में लगाया जाएगा। रेलवे के आधुनिकीकरण के लिए रेल मंत्री ने सैम पित्रादो की अगुवाई में एक विशेष समिति गठित करने का भी प्रस्ताव किया।

त्रिवेदी ने कहा कि रेल मंत्रालय ने जम्मू कश्मीर के अलावा पूवरेत्तर क्षेत्र में सीमांत इलाकों की रेल परियोजनाओं को विशेष तवज्जो देने की सोची है। उन्होंने कहा कि पूर्व रेल मंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री रेल विकास परियोजना की शुरुआत की और सीमांत क्षेत्रों का नेटवर्क भी इसके दायरे में आता है। इस परियोजना के लिए पांच लाख करोड़ रुपए के अतिरिक्त फंड की जरूरत है। त्रिवेदी ने कहा कि जम्मू कश्मीर में कठुआ-किश्तवाड की रेल परियोजना पर भी उनका मंत्रालय विशेष ध्यान देगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:थकी रेल को टॉनिक के लिए किराए में बढ़ोतरी