DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीन से सटी सीमा पर रेल नेटवर्क का विकास

चीन द्वारा भारतीय सीमा के पास सड़कों और रेलों के नेटवर्क के ताबड़तोड़ विकास का मुकाबला करने के लिए रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने सीमांत इलाकों में रेल सुविधाओं के विकास की परियोजनाओं को बढ़ावा देने की आज घोषणा की।
 
रेल बजट पेश करते हुए लोकसभा में दिनेश त्रिवेदी ने चीन का नाम लिए बिना कहा कि पड़ोसी देश अपने क्षेत्र में अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे और रेल नेटवर्क का विकास कर रहे हैं और भारत को इसे देखते हुए अपने सीमांत क्षेत्र की रेल परियोजनाओं पर खास ध्यान देना होगा।
 
उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय ने जम्मू कश्मीर के अलावा पूवरेत्तर क्षेत्र में सीमांत इलाकों की रेल परियोजनाओं को विशेष तवज्जो देने की सोची है। उन्होंने कहा कि पूर्व रेल मंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री रेल विकास परियोजना की शुरूआत की और सीमांत क्षेत्रों का नेटवर्क भी इसके दायरे में आता है। इस परियोजना के लिए पांच लाख करोड़ रूपए के अतिरिक्त फंड की जरूरत है।
 
त्रिवेदी ने कहा कि जम्मू कश्मीर में कठुआ-किश्टवार की रेल परियोजना पर भी उनका मंत्रालय विशेष ध्यान देगा। रेल मंत्री ने पूवरेत्तर क्षेत्र में रेल नेटवर्क को मजबूत बनाने की घोषणा ऐसे समय की है जब चीन ने अपने क्षेत्र में भारतीय सीमा तक अपने बुनियादी ढांचे का जबर्दस्त विकास कर लिया है। दूसरी ओर अरूणाचल प्रदेश में रेलवे की तीन सीमांत परियोजनाएं अभी तक अधर में झूल रही हैं।
 
धन की कमी की ओर इशारा करते हुए रेल मंत्री ने कहा कि उनके पास लंबित परियोजनाओं का बड़ा टोकरा बन गया है। इनमें 487 परियोजनाएं धन के अभाव में खरामा खरामा चल रही हैं। इन परियोजनाओं को पूरा करना है तो एक लाख करोड़ रूपए के अतिरिक्त प्रावधान की आवश्यकता है। रेल मंत्री ने कहा कि अगर पर्याप्त बजटीय समर्थन नहीं मिला तो यह परियोजनाएं समय पर पूरी नहीं हो पाएंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीन से सटी सीमा पर रेल नेटवर्क का विकास