DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कॉरपोरेटच इंडिया रोकेगा छंटनी

वैश्विक आर्थिक मंदी की सुनामी से जूझ रही भारत के तीन अलग-अलग सेक्टरों की तीन कंपनियों ने ऐलान किया है कि वे अपने पेशेवरों की छटनी नहीं करंगी। इंफोसिस टेक्नोलाजीज, बजाज आटो और लार्सन एंड ट्रूबो का अपने पेशेवरों को पींक स्लिप(बर्खास्तगी पत्र) न देने का ऐलान महत्वपूर्ण है। ये क्रमश: आईटी, आटो और इंजीनियरिंग क्षेत्रों की चोटी की कंपनियां हैं। इन क्षेत्रों की कंपनियों में बहुत बड़ी संख्या में कर्मी काम करते हैं। महत्वपूर्ण है कि पिछले दिनों प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह ने प्रमुख उद्योगपतियों के साथ अपनी मुलाकात में उन्हें सलाह दी थी कि वे अपने कर्मियों की छटनी न करं। इंफोसिस के सह अध्यक्ष नंदन नीलकेणी ने रविवार को यहां इंडिया इकोनामिक समिट के दौरान कहा कि आईटी क्षेत्र में इस समय मंदी का दौर चल रहा है, लेकिन वे अपनी कंपनी में भर्तियां जारी रखेंगे। लेकिन उन्होंने कहा कि हम अपने खचरे को कम करने और उत्पादकता बढ़ाने के उपाय कर रहे हैं। हम चालू वित्त साल के दौरान भी बड़ी संख्या में पेशेवर रख रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम मानते हैं कि बाकी कंपनियों को अपने खर्चे कम करने पर विचार करना चाहिए। किसी को नौकरी से बाहर करन ेसे बात नहीं बनेगी। उधर,बजाज ऑटो भी अपने किसी कर्मी की छंटनी नहीं करेगी । बजाज ऑटो के अध्यक्ष राहुल बजाज ने समिट में पत्रकारों को बताया कि उनकी कंपनी से आर्थिक मंदी के बावजूद किसी को नहीं निकाला जाएगा।क्योंकि इस सेक्टर में रोजगार लागत बहुत कम है। जाहिर है कि इसीलिए हम किसी को बाहर नहीं निकालेंगे। उधर, इंजीनियरिंग और इन्फ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र की प्रमुख कंपनी लार्सन एंड टूब्रो के चेयरमैन ए. एम. नायक ने कहा कि वे अगले तीन सालों में दस हजार पेशेवरों को रखने जा रहे है। नायक ने बताया कि चालू वित्त साल में विश्वव्यापी आर्थिक मंदी का उसकी आमदनी के लक्ष्य पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कॉरपोरेटच इंडिया रोकेगा छंटनी