DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हलचल उठी न शोर हुआ

हलचल उठी न शोर हुआ

कांग्रेस के दफ्तर में सुबह-सुबह रोज से ज्यादा सन्नाटा। कुछ हलचल 8 बजे हुई जब कुछ कार्यकर्ता व मुख्य प्रवक्ता वहां पहुंचे। नतीजों के रुझान दिखने लगे थे। मुख्य प्रवक्ता राम कुमार भार्गव सुबह पार्टी की बढ़त का श्रेय राहुल गांधी को देते दिखे। लेकिन ऐसा देर तक नहीं चला। कांग्रेस पिछड़ने लगी। नतीजे उम्मीद के मुताबिक नहीं लिहाजा कार्यकर्ता भी बिखरने लगे।

इस बीच कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी के जीतने की खबर आई। मायूसी के बीच जीत की खुशी के असर से अतिशबाजी भी हुई और मुंह भी मीठा कराया गया। लेकिन इससे न बात बननी थी और ही बनी। कहां गड़बड़ी हुई इसका आकलन होने लगा। रालोद से गठबंधन का कितना फायदा हुआ इसका लेखा-जोखा होने लगा। 

दोपहर होते-होते कार्यालय में सिर्फ 15-20 कार्यकर्ता और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की ओबी वैन। नतीजों पर प्रतिक्रिया जानने की बेचैनी लेकिन दफ्तर में आम दिनों के मुकाबले ज्यादा खामोशी। आला नेताओं की आवाजाही और दिग्गजों के जमावड़े की हलचल की झलक तक नहीं। यह वही कांग्रेस दफ्तर है जो वॉर रूम, कंट्रोल रूम, मीडिया रूम और आरजी कैम्प जैसे शब्दों से माहौल गुलजार रहता था। दिन बीतते-बीतते यहां नि:शब्द शान्ति छा गई। न कोई कार्यकर्ता, न नेता और न उत्साह।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हलचल उठी न शोर हुआ